BBC navigation

गर्भनिरोधक खरीद सकेंगी हर उम्र की लड़कियां

 रविवार, 7 अप्रैल, 2013 को 09:08 IST तक के समाचार
गर्भनिरोधक गोली

गर्भनिरोधक गोलियां बनाने वाली कंपनियों ने भी सरकार से प्रतिबंध हटाने का आग्रह किया है

अमरीका की एक संघीय अदालत ने सरकार को आदेश दिया है कि वो 30 दिन के भीतर सभी उम्र की लड़कियों के लिए दुकानों पर मॉर्निंग आफ्टर पिल या क्लिक करें गर्भनिरोधक गोलियां उपलब्ध कराए. मॉर्निंग आफ्टर पिल वो गोलियाँ हैं जिन्हें यौन संबंध बनाने के बाद लिया जा सकता है ताकि गर्भ न ठहरे.

न्यायाधीश एडवर्ड कोरमैन ने फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (एफडीए) के उस फ़ैसले को ‘मनमाना, सनकी और बेतुका’ बताया जिसके तहत गर्भनिरोधक गोलियां खरीदने की उम्र 17 साल कर दी गई थी.

अब 16 साल और इससे कम उम्र की क्लिक करें लड़कियों को गर्भनिरोधक गोलियां ख़रीदने के लिए डॉक्टर के पर्चे की ज़रूरत नहीं पड़ेगी.

गर्भनिरोधक गोलियां सेक्स के 72 घंटे के भीतर लेने पर प्रभावकारी रहती हैं. लेकिन इसे जितना जल्दी लिया जाए उतना असर ज़्यादा होता है. कुछ महिलाओं में इसके सेवन से मिचली और दस्त जैसे दुष्प्रभावों से गुजरना पड़ सकता है.

'महिलाओं की जीत'

सेंटर फ़ॉर रिप्रोडक्टिव राइट्स ग्रुप ने अदालत के फ़ैसले को महिलाओं की जीत बताया है.

संस्था ने कहा कि इस बात का कोई क्लिक करें वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है कि 17 साल से कम उम्र की लड़कियां निगरानी के बिना गर्भनिरोधक गोलियों का सुरक्षित इस्तेमाल नहीं कर सकती हैं.

"इस बात का कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है कि 17 साल से कम उम्र की लड़कियां निगरानी के बिना गर्भनिरोधक गोलियों का सुरक्षित इस्तेमाल नहीं कर सकती हैं."

सेंटर फॉर रिप्रोडक्टिव राइट्स

उसने कहा कि ये मामला राजनीति से प्रेरित है.

अमरीकी रुढ़िवादियों का मानना है कि गर्भनिरोधक गोलियां को सभी उम्र की लड़कियों के लिए उपलब्ध कराने से युवा लड़कियों में यौन प्रवृत्ति को बढ़ावा मिलेगा.

कानूनी विकल्पों पर विचार

इस बीच अमरीकी सरकार के वकील ने कहा कि वो क़ानूनी विकल्प पर विचार कर रहे हैं.

2011 में एफडीए ने कहा था कि बच्चे जनने की उम्र वाली सभी लड़कियां गर्भनिरोधक गोलियों का सुरक्षित इस्तेमाल कर सकती हैं. लेकिन स्वास्थ्य मंत्री कैथलीन सेबेलियस ने एक अभूतपूर्व क़दम उठाते हुए एजेंसी के फ़ैसले को पलट दिया था.

राष्ट्रपति बराक ओबामा ने भी कैथलीन के इस फ़ैसले का समर्थन किया था.

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.