रूस: उत्तर कोरिया में तनाव काबू से बाहर

  • 29 मार्च 2013
उत्तर कोरिया का कड़ा रुख अंतरराष्ट्रीय समुदाय के लिए चिंता का विषय बन गया है

रुस ने चेतावनी दी है कि उत्तर कोरिया का अपनी मिसाइलों को तैयार कर के रखना एक चिंता का विषय बन सकता है और स्थिति काबू से बाहर हो सकती है.

कोरियाई प्रायद्वीप पर अमरीकी लड़ाकू विमान मंडराते हुए देख कर किम जोंग उन ने अपने मिसाइल प्रणाली को तैयार रहने का आदेश दिया.

इसके अलावा संयुक्त राष्ट्र द्वारा लगाए गए प्रतिबंधों से भी उत्तर कोरिया नाराज़ है.

उत्तर कोरियाई की सरकारी न्यूज़ एजेंसी केसीएनए ने किम जोंग उन के हवाले से कहा कि ‘अब अमरीका के साथ निपटने का वक्त आ गया है.’

केसीएनए के मुताबिक किम जोंग उन ने देर रात सेना की रॉकेट फोर्स के साथ बैठक की जिसमें उन्होंने तय किया कि ‘साम्राज्यवादी अमरीकी राष्ट्र के साथ निपटने का मौका आ गया है.’

तैयार है अमरीका भी

रिपोर्टों के अनुसार उन्होंने दक्षिण कोरिया में अमरीकी बी-2 बॉम्बर लगाने जाने का विरोध किया और कहा कि इसका मतलब ये है कि अमरीका कोरियाई प्रायद्वीप पर परमाणु युद्ध करवाना चाहता है.

अमरीकी प्रायद्वीप और हवाई व गुवाम में अमरीकी बेस के अलावा उत्तर कोरिया को भी उत्तर कोरिया द्वारा संभावित हमले का निशाना बताया जा रहा है.

अमरीका ने अपने लड़ाकू विमान गुरुवार को दक्षिण कोरिया भेजे थे क्योंकि दोनों देशों के बीच युद्घाभ्यास होना था.

लेकिन फिर भी अमरीका ने कहा कि वे किसी भी संभावना के लिए तैयार हैं.

उत्तर कोरिया में किम जोंग उन के कड़े रुख के समर्थन में हज़ारों सैनिक और विद्यार्थियों ने रैली में भाग लिया.

बढ़ते तनाव के बीच उत्तर कोरिया के मित्र देश चीन ने शांति की अपील की है.

लेकिन रूस के विदेश मंत्री का कहना है कि स्थिति काबू से बाहर हो सकती है.

संबंधित समाचार