BBC navigation

अफ़गान पुलिस पर यौन शोषण समेत गंभीर आरोप

 सोमवार, 25 फ़रवरी, 2013 को 21:03 IST तक के समाचार

सांगिन में मार्च तक अफ़गान पुलिस को सत्ता हस्तांतरण हो जाएगा

अफ़गान पुलिस भ्रष्टाचार, अपहरण, नशाखोरी, बच्चों के यौन शोषण और निर्दोष लोगों की हत्या में लिप्त है- बीबीसी के कार्यक्रम पैनोरमा के लिए की गई जाँच में इसके सबूत मिले हैं.

अफ़गानिस्तान के हेलमंड प्रांत के सांगिन ज़िले में ये तहकीकात की गई.

अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा सहायता बल (इसाफ़) अगले साल तक धीरे-धीरे अफ़गानिस्तान से हट जाएगा.

सांगिन ज़िले में सत्ता का हस्तांतरण इसी साल मार्च तक हो जाएगा. सांगिन में अब भी पुलिस स्वतंत्र रूप से काम कर रही है.

मजबूर सलाहकार दल

अफ़गान पुलिस को ‘सलाह’ देने के लिए 18 अमरीकी नौसैनिकों का एक दल है. यहां कुल मिलाकर 30 पुलिस थाने हैं.

सहायता दल के मुखिया मेजर स्ट्यूबेर कहते हैं, “हम भ्रष्टाचारी, अपहरणकर्ता, नशाखोर, बच्चों का यौन शोषण करने वाले और हत्यारों के साथ काम कर रहे हैं.”

बीबीसी संवाददाता बेन एंडरसन ने इस दल के साथ पाँच हफ़्ते बिताए. उन्होंने अफ़गान पुलिस के शर्मनाक आचरण के सबूत इकट्ठे किए.

एक दिन अमरीकी नौसैनिकों की इस ‘सहायता टुकड़ी’ को अंधाधुंध गोलियां चलने की आवाज़ सुनाई दी. एक अफ़गान पुलिसकर्मी बगीचे की ओर अंधाधुंध गोलियां चला रहा था. उसके पास ही लोग रहते थे.

मेजर स्ट्यूबेर ने उसे कहा, “तुम यूं ही गोलियां नहीं चला सकते. तुम गोलियां चला रहे हो और तुम्हें पता ही नहीं कि तुम किस पर गोलियां चला रहे हो. गोली चलाने से पहले तुम्हें ये पता होना चाहिए.”

उस सैनिक ने पश्तो में जवाब दिया, “इससे कोई फ़र्क नहीं पड़ता, कोई फ़र्क नहीं पड़ता. आम नागरिक भी तालिबान ही है.”

स्ट्यूबेर ने बताया, "जब हम पहुंचे तो मैंने उसे चिलम पीते हुए देखा था. अब वो हंस रहा था, बच्चों की गोलियों की आवाज़ें निकाल रहा था और नौसैनिकों पर पिस्तौल की तरह अपनी उंगली तान रहा था. उसके कुछ साथी तो इतने नशे में थे कि वो सीधे खड़े तक नहीं हो पा रहे थे."

स्ट्यूबेर कहते हैं कि अक्सर वो दख़ल देने की स्थिति में नहीं होते.

चोरी और अपहरण

"हम भ्रष्टाचारी, अपहरणकर्ता, नशाखोर, बच्चों का यौन शोषण करने वाले और हत्यारों के साथ काम कर रहे हैं"

मेजर स्ट्युबेर, अमेरिकी नौसैनिक टुकड़ी प्रमुख

वो बताते हैं कि पुलिस बल के लिए आने वाले भंडार से हथियार, वाहनों से तेल चुराया जा रहा है.

सिर्फ़ इतना ही नहीं पुलिसवाले लोगों को पकड़ लेते हैं. उन्हें बांध देते हैं और घेर लेते हैं. इसके बाद इंतज़ार करते हैं कि परिवारवाले फिरौती देकर उन्हें छुड़ा ले जाएं.

स्ट्यूबेर कहते हैं, “बतौर सलाहकार आप जानते हैं कि आप ऐसा कुत्ता हैं जो भौंक तो बहुत सकता है लेकिन काट नहीं सकता. अगर आप उनकी सारी कारस्तानियां, सारे भ्रष्टाचार को बंद कर दें तो वो पूरी तरह निष्प्रभावी हो जाएंगे. कुछ चीज़ों को छोड़ देना पड़ता है ताकि वो सुरक्षा कर पाएं.”

लेकिन कुछ चीज़ें ऐसी हैं जिन्हें स्ट्यूबेर भी नज़रअंदाज़ नहीं कर सकते.

बाल यौन शोषण

सांगिन में हर पुलिस थाने में आपको नौकर जैसे कुछ कमउम्र लड़के मिल जाएंगे. इन्हें ‘चाय वाला लड़का’ कहा जाता है.

स्ट्यूबेर बताते हैं कि इन लड़कों को अक्सर यौन शोषण का शिकार होना पड़ता है.

अमेरिकी नौसैनिक सांगिन में सिर्फ़ सलाहकार की भूमिका में हैं

हाल ही में तीन लड़कों को भागने की कोशिश करने पर गोली मारकर हत्या कर दी गई थी.

एक और लड़के को गोली मारी गई थी. वो अभी घायल है. मेजर स्ट्यूबेर पुलिस हेडक्वॉर्टर जाकर पुलिस उपप्रमुख से मिलते हैं.

वो पूछते हैं, “क्या आपको मालूम है कि कल वहां एक लड़के को गोली मार दी गई.”

अफ़गान पुलिस के उपप्रमुख को ये समझ नहीं आता कि इसमें इतना हल्ला मचाने की क्या बात है?

पुलिस उपप्रमुख पश्तो में जवाब देते हैं, “ये लड़के खुद ही थानों में रहना चाहते हैं.” जैसे ये स्वाभाविक हो, वे आगे कहते हैं, “और खुद ही अपने शरीर सौंपना पसंद करते हैं.”

स्ट्यूबेर दबाव डालते हैं, “चलिए हम साथ चलते हैं और इन बच्चों को इस सबसे बाहर निकालकर उनके परिवारों तक पहुंचा देते हैं.”

आखिरकार पुलिस उपप्रमुख इसके लिए तैयार हो जाते हैं. लेकिन कुछ ही घंटों बाद वो इस अभियान को रद्द कर देते हैं.

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.