BBC navigation

27 साल बाद 'कंप्यूटर ऐप ने दी आवाज़'

 शुक्रवार, 22 फ़रवरी, 2013 को 16:53 IST तक के समाचार

मोबाइल ऐप के जरिए बात करते हुए केविन बेवेरली.

अपने आस-पड़ोस की दुनिया में हमें ऐसे लोग दिखते रहते हैं जिनकी जिंदगी लकवा मार जाने के बाद बदल जाती है. जो कल तक हंसी-मजाक करते रहे हों, अचानक लकवे का दौरा उन्हें अपाहिज बना देता है.

आम तौर पर शरीर का जो हिस्सा लकवे से प्रभावित होता है, वह सुन्न पड़ जाता है. आप उससे कोई काम नहीं ले पाते. कई बार यह दौरा केवल मस्तिष्क को प्रभावित करता है और इससे आपके सोचने-समझने की क्षमता प्रभावित होती है, इसके असर से कई बार आप बोल नहीं पाते हैं.

"आख़िरकार, अब कोई मुझे सुन सकता है."

केविन बेवेरली, लकवाग्रस्त ब्रितानी नागरिक

ऐसे लोगों के लिए एक कंप्यूटर क्लिक करें ऐप नई जिंदगी बन सकता है. कम से कम ब्रिटेन के केविन बेवेरली के साथ तो ऐसा ही हुआ है.

बीते 27 साल से केविन बेवेरली बोल नहीं सकते हैं. उनके शरीर का बायां हिस्सा लकवाग्रस्त है. उनके दिमाग पर भी इसका असर पड़ा जिसके चलते वे बोल नहीं पाते हैं.

मूक लोगों के लिए नई उम्मीद

एक समय कराटे के ब्लैक बेल्ट चैंपियन रहे केविन के लिए ये जिंदगी बोझ बन गई थी लेकिन कंप्यूटर के एक नए ऐप ने उनकी जिंदगी आसान कर दी है.

दरअसल इस ऐप में आदमी के तमाम मनोभावों को संकेतों के जरिए दर्शाया गया है और मनोभावों को एक आवाज़ में रिकॉर्ड किया गया है.

आप जिस मनोभाव को अभिव्यक्त करना चाहते हैं, उससे संबंधित संकेत को दबाने पर पूरी अभिव्यक्ति आवाज के तौर पर निकलती है.

इस ऐप के इस्तेमाल करते हुए केविन के चेहरे पर खुशियां देखीं जा सकती हैं. उनके पहली अभिव्यक्ति रही है, “आख़िरकार, अब कोई मुझे सुन सकता है.”

साफ है कि इस ऐप के इस्तेमाल से मूक लोगों को भी अपनी भावनाओं की अभिव्यक्ति में मदद मिलेगी.

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.