BBC navigation

अब चीन ने अमरीका को व्यापार में पछाड़ा

 सोमवार, 11 फ़रवरी, 2013 को 14:44 IST तक के समाचार
चीन का एक पोर्ट

चीन का बढ़ता दबदबा बाकी देशों के लिए 'खतरे की घंटी' साबित हो सकती है

अमरीका को पछाड़ते हुए चीन अब दुनिया का सबसे बड़ा व्यापारी देश हो गया है.

साल 2012 के आयात और निर्यात से जुड़े दोनों देशों के आधिकारिक आंकड़ों से ये तथ्य सामने आया है.

ब्लूमबर्ग न्यूज़ ने अमरीकी वाणिज्य विभाग के हवाले से रिपोर्ट किया कि अमरीका के आयात और निर्यात से जुड़ी आय 38.2 खरब डॉलर रही, जबकि चीन के कस्टम विभाग ने बताया कि देश की 2012 की आय 38.7 खरब डॉलर रही.

चीन का बढ़ता वाणिज्यिक दबदबा उसके पड़ोसी देशों के साथ-साथ अन्य देशों के लिए भी खतरे की घंटी साबित हो सकती है.

गोल्डमैन साक्स के एक अधिकारी जिम ओनील ने ब्लूमबर्ग को बताया, “दुनिया में कितने ही देश है जिनके चीन से व्यापारी संबंध बनते जा रहे हैं. जिस तेज़ी से ये हो रहा है, उसे देख कर लगता है कि अगले एक दशक में यूरोपीय देश आपसी व्यापार के बजाय चीन के साथ ज़्यादा व्यापार करेंगें.”

अमरीका की 'चिंता'

विश्व बैंक के मुताबिक अमरीकी अर्थव्यवस्था चीन से दोगुनी बड़ी है. विश्लेषकों का कहना है कि इस पृष्ठभूमि में चीन का अमरीका को पछाड़ना एक बेहद असाधारण बात है.

साथ ही विश्लेषकों का मानना है कि ऐसा चीनी मुद्रा युआन के अवमूल्यन के कारण ही नहीं बल्कि चीनी निर्यात में आई तेज़ी की वजह से हुआ है.

द्वितीय विश्व युद्ध के बाद अमरीका विश्व की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था के रूप में उभर कर आया था.

जबकि चीन ने अपनी अर्थव्यवस्था पर 1976 में माओ त्से तुंग की मौत के बाद ही ध्यान देना शुरू किया.

2009 में चीन विश्व का सबसे ज़्यादा निर्यात करने वाला देश बन गया था, जबकि अमरीका सबसे ज़्यादा आयात करने वाला देश है और चीन से काफी चीज़े आयात करता है.

विश्लेषकों का कहना है कि ताज़ा आंकड़ों के बाद अमरीका और चीन के बीच तनाव बढ़ सकता है.

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.