BBC navigation

फ़ेसबुक के ज़रिए दोस्तों की दुनिया में झाँकिए

 बुधवार, 16 जनवरी, 2013 को 20:21 IST तक के समाचार

फ़ेसबुक के सर्च इंजन की हुई शुरुआत.

अगर आप फ़ेसबुक का इस्तेमाल करते हों तो आपके लिए ये ख़बर काम की है. दरअसल फ़ेसबुक के ने अपने एप्लिकेशन में एक ख़ास सर्च इंज़न को जोड़ा है. इसे ग्राफ सर्च का नाम दिया गया है.

इसके जरिए फ़ेसबुक का इस्तेमाल करने वाले अपने दोस्तों की सूची में साझा की गई सामग्री को सर्च करके तलाश सकते हैं.

मसलन अगर आपको ये जानना हो कि आपके फ़ेसबुक फ़्रेंडस में कितने शाहरुख़ ख़ान या सचिन तेंदुलकर या फिर हैरी पॉटर को लाइक करते हैं, तो इसका पता आपको तुरंत चल जाएगा.

फ़ेसबुक के संस्थापक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी मार्क ज़करबर्ग ने जोर देते हुए कहा है कि फ़ेसबुक का ये सर्च इंजन इंटरनेट की दुनिया में मौजूद सामाग्री में से तलाश नहीं करेगी.

गूगल को ख़तरा नहीं

"हम वेब का इंडेक्स नहीं बना रहे हैं. हम अपने सर्च इंजन ग्राफ का इंडेक्स बना रहे हैं."

मार्क ज़करबर्ग, संस्थापक, फ़ेसबुक

यानी कुछ भी तलाशने के लिए आपको गूगल या अन्य सर्च इंजन का ही सहारा लेना होगा.

लेकिन फ़ेसबुक का ये सर्च इंजन इस मामले में ख़ास है कि जो चीज ये ख़ुद नहीं तलाश पाएगा उसे माइक्रोसॉफ्ट के सर्च इंजन बिंग से जोड़ते हुए तलाश कर देगा.

मार्क ज़करबर्ग ने कहा, “हमारा उद्देश्य किसी चीज को तलाशना नहीं है, लेकिन अगर आप कुछ ऐसा तलाश रहे हैं जो इस सर्च इंजन में नहीं मिलता है तो बिंग के साथ हमारा जुड़ाव अच्छा विकल्प है.”

पहले ये कहा जा रहा था कि फ़ेसबुक सर्च इंजन से गूगल के दबदबे को चुनौती देने जा रहा है.

कैलिफोर्निया में आयोजित एक प्रेस कॉन्फ़्रेंस में ज़करबर्ग ने कहा, “हम वेब का इंडेक्स नहीं बना रहे हैं. हम अपने सर्च इंजन ग्राफ का इंडेक्स बना रहे हैं.”

फ़ेसबुक के नियम और प्रावधान के मुताबिक सोशल ग्राफ सर्च इंजन आपके फ्रेंड्स की ओर से साझा की गई सूचनाओं से आपको जोड़ देगा.

इसमें तस्वीरें, स्टेट्स अपडेट, लोकेशन और लाइकिंग शामिल होंगे.

प्राइवेसी का ख्याल

फ़ेसबुक का सर्च इंजन एक सीमित दायरे में काम करेगा लिहाजा इसकी ख़ूब आलोचना हो रही है.

दूसरी तरफ फ़ेसबुक की ओर से कहा जा रहा है कि लोगों की प्राइवेसी का ख़्याल रखते हुए सर्च इंजन को सीमित रखा गया है.

सर्च इंजन को डेवलेप करने वाले लार्स रासमूसेन ने कहा, “ग्राफ सर्च में आप केवल उन्हीं चीजों को तलाश पाएंगे जिसे आपके साथ शेयर किया गया है.”

वैसे ये माना जा रहा है कि इस सर्च इंजन से व्यक्तिगत लोगों को व्यवसायिक कंपनियां के पेजों से संपर्क साधने में मदद मिलेगी.

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.