अब कोक चलाएगा मोटापे के खिलाफ अभियान

 मंगलवार, 15 जनवरी, 2013 को 22:22 IST तक के समाचार
कोका कोला

मोटापे के मुद्दे पर जागरूकता अभियान चलाएगी कोका कोला कंपनी.

शीतल पेय बनाने वाली दुनिया की जानी मानी कंपनी कोका कोला छोटे पर्दे पर पहली बार मोटापे के मुद्दे पर एक विज्ञापन अभियान चलाने जा रही है.

दो मिनट के इस व्यावसायिक विज्ञापन में कोका कोला के कम कैलोरी वाले उत्पादों का प्रचार किया गया है.

विज्ञापन में दर्शकों को खाद्य सामाग्रियों में कैलोरी के स्तरों के बारे में भी बताया गया है.

सोमवार को अमेरिका के केबल टेलीविजन नेटवर्क पर जारी किए गए इस विज्ञापन को सॉफ्ट ड्रिंक उद्योग पर बढ़ते दबाव के नतीजे के तौर पर देखा जा रहा है.

इस बीच न्यूयॉर्क शहर के रेस्त्रां, सिनेमा हॉल्स और स्टेडियम में चीनी की ज्यादा मात्रा वाले पेयों पर रोक लगाने की तैयारी चल रही है.

जागरूकता अभियान

"मोटापे के मुद्दे पर महत्वपूर्ण बहस चल रही है, और हम इसमें शरीक होना चाहते हैं"

स्टुअर्ट क्रोनॉग, महाप्रबंधक कोको कोला कंपनी

कोका कोला ने कहा है कि सॉफ्ट ड्रिंक उद्योग की हो रही आलोचना के जवाब में उन्होंने यह विज्ञापन अभियान शुरू नहीं किया है. कंपनी का कहना है कि उनकी कोशिश लोगों को जागरूक करने की है.

यह पहली बार नहीं है कि अटलांटा की इस कंपनी ने मोटापे को उठाने के लिए कोई विज्ञापन अभियान चलाया हो. लेकिन छोटे पर्दे पर यह पहली बार जरूर है.

कंपनी के उत्तरी अमेरिका क्षेत्र के महाप्रबंधक स्टुअर्ट क्रोनॉग ने कहा, "मोटापे के मुद्दे पर महत्वपूर्ण बहस चल रही है, और हम इसमें शरीक होना चाहते हैं."

विज्ञापन में पृष्ठभूमि से आती एक महिला की आवाज में कहा गया है कि कोका कोला छोटे आकार में अपने उत्पाद पेश करती है. कंपनी बेहतर स्वाद और कम कैलोरी वाले मिठास के लिए काम कर रही है. कंपनी ने स्कूलों में स्वेच्छा से कम कैलोरी वाले पेय उत्पाद भी उतारे हैं.

टेलीविजन विज्ञापन

कोका कोला

शीतल पेय उत्पादों पर मोटापे में इजाफा करने के आरोप लगते रहे हैं.

वीडियो में कहा गया है, "किसी भी तरह की कैलोरी से फर्क पड़ता है, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि वे कहां से आ रही हैं."

वीडियो कहता है, "कैलोरी की जितनी खपत आप कर सकते हैं अगर आप उससे ज्यादा का उपभोग कर रहे हैं तो आपका वजन बढ़ेगा."

अगले हफ्ते प्रसारित होने वाले एक दूसरे विज्ञापन में कोक की एक केन से मिलने वाले 140 कैलोरी उर्जा की खपत के लिए की जाने वाली गतिविधियां दिखाई गई हैं.

लेकिन सेंटर फॉर द साइंस इन द पब्लिक इंटरेस्ट के कार्यकारी निदेशक माइक जैकबसन कहते हैं कि अगर कंपनी मोटापे से निपटने के लिए सचमुच गंभीर है तो उसके उत्पादों पर लगे टैक्स के खिलाफ लड़ाई बंद कर देगी.

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.