पाक सेना : भारत नहीं दुश्मन नंबर 1

 गुरुवार, 3 जनवरी, 2013 को 01:49 IST तक के समाचार
परवेज़ कियानी

पाकिस्तान सेना द्वारा चरमपंथ को पाकिस्तान के लिए सबसे बड़ा ख़तरा पहली बार कहा गया है.

पाकिस्तान की सेना ने अपनी सैन्य नीति में बहुत बड़ा बदलाव करते हुए माना है कि पाकिस्तान की सुरक्षा को भारत से नहीं बल्कि देश के भीतर से ज़्यादा बड़ा ख़तरा है.

पाकिस्तानी सेना द्वारा प्रकाशित नए सैन्य सिद्धांत या सैन्य डॉक्ट्रिन में कहा गया है कि देश की पश्चिमी सीमाओं और कबायली क्षेत्रों में जारी गुरिल्ला युद्ध और तथा कुछ देश के भीतर लगातार बम हमले को देश के लिए सबसे बड़ा खतरा हैं.

सेना ने अपने नए दस्तावेज़ में पश्चिमी सीमा से उठे खतरे की बात कही है लेकिन अफगानिस्तान का नाम नहीं लिया है. इसी तरह से इस दस्तावेज़ में किसी चरमपंथी संगठन का नाम भी नहीं लिया गया है.

नीति नज़रीया बदला

यह डॉक्ट्रिन सेना अपनी युद्ध तैयारियों की समीक्षा और योजनाओं को ज़रूरी दिशा में रखने के लिए प्रकाशित करती है. बीते कई दशकों से पाकिस्तानी सेना की ज़्यादातर तैयारियां और हथियारों की खरीद भारत से लड़ने के लिए की जाती रही हैं.

" जब से पाकिस्तान बना है सबसे बड़ा ख़तरा भारत को माना जाता रहा है . वो ख़तरा अभी भी है लेकिन इतना बड़ा नहीं जितना की इन गुरिल्ला युद्ध लड़ने वालों से या उन लोगों और संगठनों से है जो अफगानिस्तान में पनाह लेते हैं और वह से पाकिस्तान पर हमला करते हैं"

तलत मसूद, सेवानिवृत लेफ्टिनेंट जनरल

लेकिन 11 सालों से लगातार देश के भीतर चरमपंथियों से लड़ने के बाद सेना के रणनीतिकारों को बदलती हकीकत का अहसास हुआ है.

पाकिस्तान सेना के सेवानिवृत लेफ्टिनेंट जनरल तलत मसूद ने बीबीसी से कहा " इससे तो लगता है कि सेना के अन्दर एक मूलभूत बदलाव आया है. जब से पाकिस्तान बना है सबसे बड़ा ख़तरा भारत को माना जाता रहा है . वो ख़तरा अभी भी है लेकिन इतना बड़ा नहीं जितना की इन गुरिल्ला युद्ध लड़ने वालों से या उन लोगों और संगठनों से है जो अफगानिस्तान में पनाह लेते हैं और वह से पाकिस्तान पर हमला करते हैं."

इस बार इसमें एक नया अध्याय जोड़ दिया गया है जिसे 'सब-कन्वेंशनल वारफेयर' या अर्ध पारंपरिक युद्ध का नाम दिया गया है.

हरी किताब

हरे रंग की किताब की शक्ल में छापा गया यह करीब 200 पन्नों का दस्तावेज़ पाकिस्तान में फौजी अफसरों केबीच में बांटा जाना शुरू हो गया है.

जब इस बारे में सैन्य अधिकारियों से संपर्क किया गया तो उन्होंने कहा कि पाकिस्तानी सेना पारंपरिक और गैर पारंपरिक सभी प्रकार की चुनौतियों का सामना करने के लिए तैयार है.

पाकिस्तान में आज़ादी के बाद से कई नेताओं और सरकारों ने अलग-अलग समय पर भारत के साथ ताल्लुकात सुधारने के कोशिश की लेकिन पाकिस्तानी फ़ौज ने हमेशा भारत को देश के लिए सबसे बड़ा ख़तरा माना.

नवाज़ शरीफ के प्रधानमंत्रित्व काल में जब भारतीय प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई पाकिस्तान के दौरे पर गए तब तत्कालीन सेना अध्यक्ष जनरल परवेज़ मुशर्रन ने उन्हें सैल्यूट करने से इनकार कर दिया था.

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.