तीन साल बाद लौटी बच्ची, पिता ने किया था अगवा

  • 29 दिसंबर 2012
अतिया अंजुम
अतिया की ये तस्वीर तीन साल पुरानी है

अतिया अंजुम तीन वर्ष की थी जब उसके पिता उसे अगवा करके पाकिस्तान ले गए थे, लेकिन उसकी मां की तीन साल की लड़ाई रंग लाई और अब बच्ची वापस ब्रिटेन पहुंच गई है.

अतिया अंजुम विल्किंसन को आखिरी बार 2009 में उस वक्त देखा गया था जब उसके तीसरे जन्मदिन पर पाकिस्तानी मूल के उसके पिता ग्रेटर मैनचेस्टर में एश्टन अंडर-लिन में स्थित घर से ले गए थे.

तीन साल बाद अतिया अब मैनचेस्टर के हवाई अड्डे पर वापस अपनी मांग गेमा विल्किंसन से मिली.

इस बच्ची के पिता रिजवान अली अंजुम सजा काट रहे हैं क्योंकि उन्होंने अदालती आदेश के बावजूद ये नहीं बताया था कि बच्ची कहां है.

सालों रहीं गायब

नॉर्थ वेस्ट इलाके से यूरोपीय संसद के सदस्य सज्जाद करीम ने इस मुद्दे को पाकिस्तान की विदेश मंत्री के सामने उठाया था. उनका कहना है कि अतिया को तलाश करने और वापस ब्रिटेन में पहुंचाने में पाकिस्तान के अधिकारियों का अहम योगदान रहा है.

करीम बताते हैं, “अधिकारियों ने पता लगाया कि अतिया को कहां रखा गया है और उन्होंने उस जगह की निगरानी की जहां उसे रखा गया और जिनके साथ वो रह रही है कि उन लोगों को बताया कि इस बच्ची को ब्रिटेन लौटना है. वो अपने पिता के रिश्तेदारों के साथ रह रही थी.”

उन्होंने बताया, “परिवार वालों ने कोई विरोध नहीं किया. अतिया पूरी तरह सेहतमंद थी. उसे अच्छी तरह रखा गया था.”

बीबीसी संवाददाता अलीम मकबूल ने कहा कि अतिया को पूर्वी पाकिस्तान में सियालकोट के नजदीक दस्का नामक गांव में रखा गया है.

अतिया की मां को बताया गया कि उनकी बेटी क्रिसमस के दिन ढूंढ ली गई और पाकिस्तानी अधिकारियों ने अतिया की तस्वीरें गेमा को भेजीं.

रिजवान को सजा

32 वर्षीय गेमा 2008 में अंजुम से अलग हो गईं और उन्होंने अपनी बेटी का पता लगाने के लिए काफी मशक्कत की है.

पिछले महीने की गई अपील में उन्होंने कहा कि वो ये भी नहीं जानती हैं कि अतिया जिंदा है या फिर मर गई.

उन्होंने रिजवान के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की ताकि अपनी बेटी के बारे में उन्हें कुछ जानकारी मिल सके.

अदालत को बताया गया कि रिजवान ने कहा कि वो अतिया को साउथपोर्ट ले जा रहे हैं, लेकिन वो उसे विमान से लाहौर ले गए और गेमा से कहा कि वो कभी दोबारा अपनी बेटी को नहीं देख पाएंगी.

अप्रैल में जब रिजवान ने ये बताने से इनकार कर दिया कि अतिया कहां है तो हाई कोर्ट ने उन्हें एक साल की सजा सुनाई.

रिजवान ने संकेत दिया कि अतिया पाकिस्तान या ईरान में हो सकती है लेकिन उसकी सही सही जगह के बारे में उन्होंने नहीं बताया. इस पर जज ने कहा, “मुझे पता है कि वो झूठ बोल रहे हैं.”

अदालत ने रिवजान को पहले भी तीन सजाएं सुना चुकी है जो एक से दो साल तक की हैं.

संबंधित समाचार