ईरान की इकलौती महिला मंत्री बर्खास्त

  • 28 दिसंबर 2012
ईरान की महिला मंत्री
दवाओं के दाम बढ़ाना चाहती हैं दास्तजेर्दी

ईरान के राष्ट्रपति महमूद अहमदीनेजाद ने स्वास्थ्य मंत्री मारजिए वाहिद दास्तजेर्दी को बर्खास्त कर दिया है जो उनके मंत्रिमंडल की इकलौती महिला मंत्री थीं.

ईरान में हुई क्रांति के 30 के वर्षों में दास्तजेर्दी पहली महिला मंत्री भी थी.

हालांकि उनकी बर्खास्तगी का कोई कारण नहीं बताया गया है लेकिन इसे उनके इस बयान से जोड़ कर देखा जा रहा है कि ईरान पर लगे अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंधों के कारण हो रही किल्लत से निपटने के लिए दवाओं के दाम बढ़ाने चाहिए.

अहमदीनेजाद ने उनकी इस अपील को खारिज कर दिया और कहा कि उनकी बजट संबंधी जरूरतों को पूरा कर दिया गया है.

प्रतिबंधों की मार

विश्लेषकों का कहना है कि अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंधों के कारण ईरान की अर्थव्यवस्था को कई मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है.

हालांकि प्रतिबंधों के जरिए दवाओं को निशाना नहीं बनाया गया है, लेकिन वित्तीय लेन-देन पर पाबंदियों के कारण दवाओं का सीमित ही आयात हो पाता है.

बर्खास्तगी से पहले दास्तजेर्दी ने कहा कि विदेशी विनियम दर बढ़ने के कारण दवाओं की कीमतों को बढ़ाना लाजमी हो गया है.

उनकी शिकायत थी कि उनके विभाग को वो विदेशी मुद्रा नहीं मिल पा रही है जिसका वादा किया गया था.

उन्होंने कहा, “हमें इस साल के लिए चिकित्सा क्षेत्र की जरूरतों को पूरा करने के लिए विदेशी विनिमय में 2.5 अरब डॉलर की जरूरत है, लेकिन सिर्फ 65 करोड़ डॉलर की निश्चित किए गए हैं.”

दवा के दामों पर विवाद

वहीं ईरानी राष्ट्रपति ने एक टीवी इंटरव्यू में कहा कि स्वास्थ्य मंत्रालय को पर्याप्त राशि दी गई है.

उन्होंने कहा, “किसी को भी दवाओं के दाम बढ़ाने का अधिकार नहीं है.”

समाचार एजेंसी रॉयटर्स का कहना है कि मोहम्मद हसन तारिकात को अंतरिम स्वास्थ्य मंत्री नियुक्त किया गया है.

ईरान के परमाणु कार्यक्रम के कारण अमरीका और यूरोपीय संघ ने उस पर कड़े आर्थिक प्रतिबंध लगा रखे हैं.

पश्चिमी देशों को संदेह है कि ईरान परमाणु हथियार बना रहा है जबकि ईरान इससे इनकार करता है और अपने परमाणु कार्यक्रम का उद्देश्य ऊर्जा जरूरतों को पूरा करना बताता है.