BBC navigation

'मानसिक रूप से परेशान था हत्यारा'

 शनिवार, 15 दिसंबर, 2012 को 19:05 IST तक के समाचार
अमरीका

एडम लांज़ा द्वारा किए कत्लेआम में 27 लोगों की मौत हो गई

अमरीका के सैंडी हुक स्कूल में शुक्रवार रात अंधाधुंध गोली चलाकर 27 लोगों की जान लेने वाले हमलावर की पहचान कर ली गई है. अमरीकी मीडिया के अनुसार इस शख्स की पहचान 20 वर्षीय एडम लांज़ा के रूप में हुई है.

एडम लांज़ा के सहपाठियों से उसके बारे में ज्य़ादा कुछ पता नहीं चल सका है क्योंकि वो शर्मीले स्वभाव के थे और लोगों को उनके बारे में ज़्यादा कुछ याद नहीं है.

आरोप है कि लान्ज़ा ने कथित तौर पर शनिवार रात सैंडी हुक स्कूल में मचाए कत्लेआम में 20 बच्चों समेत 27 लोगों की हत्या कर दी थी.

उसके सहपाठियों के मन में एड्म को लेकर जो यादें ताज़ा हैं वो सिर्फ इतनी हैं कि वो बहुत करीने से कपड़े पहनते थे और काफी मेहनती थे. लेकिन उन्हें बमुश्किल किसी से बात करते हुए देखा गया था.

पुलिस इस बात का पता लगाने की कोशिश कर रही है कि कहीं एडम किसी तरह की पर्सनैलिटी डिसऑर्डर यानि व्यक्तित्व में किसी तरह की विसंगति से जुड़ी समस्या से पीड़ित तो नहीं थे.

शर्मीले और सहमे-सहमे

ऐसा लगता है कि एडम को लोगों की नज़रों में आना पसंद नहीं था. अमरीकी मीडिया को हाईस्कूल के साल 2010 के ईयरबुक में भी उसकी कोई तस्वीर नहीं मिली है.

वहां उनेके बारे कुछ ऐसी टिप्पणी की गई थी, ''कैमरा शाई'' यानि कैमरे से परहेज़ करनेवाला."

एडम इंटरनेट पर भी ज्य़ादा सक्रिय नहीं थे.

एडम लांज़ा अपनी मां के साथ क्नेक्टीकट के नज़दीक ही बसे न्यूटाउन में रहा करते थे. ये एक संभ्रात इलाका है. एडम का घर सैंडी हुक स्कूल से आठ किलोमीटर की दूरी पर था.

" मैंने उसे कभी किसी के साथ नहीं देखा था. मैं ऐसे किसी एक व्यक्ति को याद नहीं कर पा रहा हूं जिसे उसके साथ देखा हो"

ओलिविया डि विवो, एडम के पूर्व सहपाठी

कुछ लोगों के मुताबिक एडम बचपन में इसी स्कूल के छात्र रह चुके थे.

बड़े होने के बाद वो न्यूटाउन के हाईस्कूल में पढ़ाई के लिए जाने लगे. एडम को जानने वाले उन्हें एक बेहद ही शर्मीले और सहमे हुए लड़के के रूप में याद करते हैं.

उनके दोस्तों के मुताबिक वे बेहद होशियार लेकिन चुप-चुप रहने वाले लड़के थे जिसके ज्य़ादा दोस्त नहीं थे.

एडम के एक पूर्व सहपाठी ओलिविया डी विवो ने न्यूयार्क टाइम्स को बताया, ''मैंने उसे कभी किसी के साथ नहीं देखा था. मैं ऐसे किसी एक व्यक्ति को याद नहीं कर पा रहा हूं जिसे उसके साथ देखा गया हो.''

बिखरा परिवार

लेकिन एडम की आंटी मार्शा लांज़ा ने एसोसिएटेड प्रेस को बताया कि, ''उसकी परिवरिश बेहद ही संवेदनशील माता-पिता द्वारा की गई थी. अगर उन्हें लगता कि उसे किसी मदद या काउसिंलिंग की ज़रुरत है तो वो ऐसा करने में ज़रा भी नहीं हिचकिचाते.''

अमरीका

अमरीका में कई जगहों पर राष्ट्रीय झंडा झुका कर रखा गया है

एडम के माता-पिता का साल 2009 में तलाक हो गया था. उनके पिता पीटर लांज़ा स्टैमफोर्ड चले गए थे जहां उन्होंने बाद में दूसरी शादी कर ली थी.

जबकि एडम की मां नैन्सी अपने पारिवारिक घर में ही एडम के साथ रहती रहीं और टीचर के तौर पर काम करती रहीं. ऐसा समझा जा रहा है कि नैन्सी भी एडम के हाथों मारी गई है.

एडम के बड़े भाई 24 साल के रयान अपनी कॉलेज की पढ़ाई खत्म करने के बाद न्यूजर्सी चले गए थे. वे वहां एक कंपनी में काम करते हैं.

उन्हें भी उनके दोस्त काफी आकर्षक और शर्मीला कहते हैं.

रयान लान्ज़ा घटना की छानबीन में पुलिस की पूरी मदद कर रहे हैं. हालांकि अमरीकी मीडिया के अनुसार वे साल 2010 के बाद से अपने भाई के संपर्क में नहीं थे.

एडम के पड़ोसियों के अनुसार दोनों बच्चों पर अपने मां-बाप के तलाक़ का ग़हरा असर पड़ा था. हालांकि उनकी मां ने उन दोनों का ख्याल रखने के लिए काम करना जारी रखा था.

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.