अमरीकी चुनाव में ईमेल से भी पड़ेगे वोट

  • 6 नवंबर 2012

अमरीका में मंगलवार को हो रहे राष्ट्रपति चुनाव में न्यू जर्सी राज्य के लोगों को ईमेल से अपना वोट डालने की अनुमति दी गई है.

न्यू जर्सी पूर्वोत्तर अमरीका के उन राज्यों में शामिल है जहां हफ्ते भर पहले आए सैंडी तूफान से भारी तबाही हुई है. ऐसे में लोगों के मतदान केंद्रों तक पहुंचने में होने वाली समस्याओं को मद्देनजर रखते हुए उन्हें ईमेल से वोट डालने की अनुमति दी गई है.

न्यू जर्सी के अधिकारियों का कहना है कि ईमेल से वोट की सुविधा राहत के कामों में लगे लोगों को भी दी गई है.

मतदाता अपने इलाके से क्लर्क से ईमेल या फैक्स के जरिए मतदान पत्र मंगा सकते हैं और बाद में अपना वोट अंकित कर उन्हें वो मतदान पत्र ईमेल या फैक्स से ही वापस भेजना होगा.

दूसरी तरफ विशेषज्ञों का कहना है कि ईमेल के जरिए मतदान का व्यापक पैमाने पर परीक्षण नहीं हुआ है, इसलिए इसमें हैकिंग या कंप्यूटर वायरस से होने वाली गड़बड़ी का खतरा रहेगा.

ओबामा रोमनी के तूफानी दौरे

कितनी बदली है ओबामा का छवि

बयानों के तीर

इस बीच राष्ट्रपति बराक ओबामा और उनके रिपब्लिकन प्रतिद्वंद्वी मिट रोमनी ने चुनाव प्रचार के आखिरी दिन सोमवार को अपनी पूरी ताकत झौंक दी.

ओबामा ने विसकोन्सिन की चुनावी सभा में अपने चार साल के कार्यकाल का बचाव किया और मतदाताओं से खुद को दूसरा मौका देने की अपील की. उन्होंने कहा कि अभी और काम किया जाना बाकी है.

ओबामा ने कहा, “मैंने कहा था कि इराक में युद्ध खत्म करूंगा, वो किया. मैंने कहा था कि स्वास्थ सुधार बिल पारित करूंगा, किया. मैंने कहा था कि 'मत पूछो, मत बताओ' को रद्द करूंगा, मैंने किया. मैंने कहा था कि वॉल स्ट्रीट में हो रही गड़बड़ियों को दूर किया जाएगा, हमने किया.”

वहीं मिट रोमनी ने अपने दिन की शुरुआत फ्लोरिडा में चुनावी सभा से की. उन्होंने कहा, “कल हम एक बेहतर कल की शुरुआत कर सकते हैं और ये फ्लोरिडा के लोगों की मदद से हो सकता है और यही होने जा रहा है.”

अमरीकी चुनाव
गिने चुने राज्यों के लोग खासकर विजेता का फैसला करेंगे

कहां होगा विजेता का फैसला ?

बाद में दोनों उम्मीदवार ओहियो रवाना हो गए. ओहियो भी उन राज्यों में शामिल हैं जिनकी हार जीत में अहम भूमिका रहेगी.

इस बीच राष्ट्रीय स्तर पर किए जाने वाले सर्वेक्षणों में दोनों उम्मीदवारों के बीच कांटे की टक्कर बताई जा रही है.

प्रचार के आखिरी दिन दोनों उम्मीदवारों ने उन राज्यों के मतदाताओं को लुभाने की भरपूर कोशिश की जिनका रुख अब तक साफ नहीं हो पाया है. ये राज्य हैं विसकोन्सिन, ओहियो, आयोवा, वर्जीनिया, न्यूहैंपशायर और फ्लोरिडा.

विश्लेषकों का कहना है कि हार जीत का फैसला यही राज्य करेंगे.

संबंधित समाचार