सऊदी अरब में होंगी अब महिला पुलिस

 मंगलवार, 23 अक्तूबर, 2012 को 19:58 IST तक के समाचार
सऊदी अरब

सऊदी अरब में धार्मिक पुलिस के खिलाफ अक्सर लोगों से ज्यादती के आरोप लगते रहे हैं

सऊदी अरब की धार्मिक पुलिस के प्रमुख का कहना है कि पुलिस बल में और अधिक महिलाओं की नियुक्ति की जरूरत है.

देश के सरकारी अखबार से बात करते हुए अब्दुल लतीफ अजीज अल शेख ने उम्मीद जताई कि जल्द ही इसके लिए एक भर्ती अभियान चलाया जाएगा.

सऊदी अरब की धार्मिक पुलिस देश में कड़े इस्लामी कानूनों को लागू करवाती है जिनमें ड्रेस कोड से लेकर नमाज का समय भी शामिल होता है.

संवाददाताओं का कहना है कि धार्मिक पुलिस में महिलाओं को शामिल करने की योजना देश में सावधानीपूर्वक लागू किए जा रहे सुधार एजेंडे का हिस्सा हो सकता है.

इस महीने की शुरुआत में अल शेख ने कहा था कि वो धार्मिक पुलिस यानी “मुतवा” की शक्तियों पर लगाम लगा सकते हैं.

जनवरी महीने में उन्हें खुद इन्हीं चीजों से निबटने के लिए नियुक्त किया गया था जब धार्मिक पुलिस की ज्यादती के खिलाफ लोगों में आक्रोश बहुत बढ़ गया था.

हाल ही में, एक मोबाइल क्लिप सामने आया था जिसमें एक पुलिस वाला एक महिला को मॉल से बाहर जाने के लिए कह रहा था क्योंकि उसके श्रृंगार की खबरें इंटरनेट पर फैल गई थीं.

कानून में नरमी

फिलहाल इस तरह के कोई संकेत नहीं हैं कि पुलिस बल में महिलाओं को नियुक्त करने से कानून में कोई नरमी बरती जाएगी, लेकिन आम जीवन में महिलाओं की भागीदारी को बढ़ाने में इस कदम से मदद जरूर मिलेगी.

सऊदी अरब में धार्मिक पुलिस यानी मुतवा को जो जिम्मेदारियां दी गई हैं, उनमें महिलाओं को गाड़ी चलाने से रोकना, पारंपरिक इस्लामी पहनावे को लागू करना, मनोरंजन के स्थानों पर पुलिस प्रतिबंध और नमाज के वक्त दिन में पांच बार सभी व्यापारिक गतिविधियों को बंद करवाना शामिल है.

हालांकि सऊदी अरब काफी हद तक रूढ़िवादी देश है, लेकिन किंग अब्दुल्ला ने हाल ही में सावधानीपूर्वक कुछ सुधार लागू करने की कोशिश की है.

सितंबर 2011 में उन्होंने घोषणा की थी कि महिलाओं को वोट डालने का अधिकार होना चाहिए और बाद में निगम चुनावों में इसे लागू भी किया गया.

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.