सात चीज़ें जो स्टीव जॉब्स के बिना बदल गईं

 शुक्रवार, 5 अक्तूबर, 2012 को 17:43 IST तक के समाचार
स्टीव जॉब्स

5 अक्टूबर 2011 को पाचन-ग्रांथि के कैंसर के कारण स्टीव जॉब्स की मृत्यु हो गई थी.

पिछले साल इसी दिन स्टीव जॉब्स ने दुनिया को अलविदा कह दिया था लेकिन सच ये है कि स्टीव जॉब्स की कमी की भरपाई नहीं हो पाई है. कॉरपोरेट जगत में अक्सर ये सुनाई देता है कि हम ‘स्टीव जॉब्स की कमी’ महसूस करते हैं.

ये कमी कभी भी किसी को भी महसूस हो सकती है. मसलन एक कॉकटेल पार्टी के दौरान स्टीव जॉब्स के साथ काम करने वाले ऐपल के कर्मचारियों ने कहा कि उनके चीखने-चिल्लाने को सबसे ज्यादा ‘मिस’ करते हैं.

नए आई-फोन के लिए लाइन में खड़े, फोन के लॉन्च की प्रेस कॉन्फ्रेन्स सुनते या फोन की किसी दुकान के सामने से गुज़रते आम लोग भी अक्सर ये कहते सुनाई देते हैं कि स्टीव जॉब्स के बिना स्मार्टफोन्स की दुनिया नीरस हो गई है.

क्या कुछ बदला

स्टीव जॉब्स

1977 की ये तस्वीर उस वक्त की है जब स्टीव जॉब्स पुरानी तकनीक के ज़रिए नए ज़माने की नब्ज़ को पकड़ रहे थे.

  • हमें कुछ ऐसा देखने को नहीं मिला जो करामाती सोच या पहले से दिख रही चीज़ को नए सिरे से देखने का नज़रिया दे. ऐपल की प्रेस कॉन्फ्रेंस अब उतनी मज़ेदार नहीं हैं.
  • तकनीक पर लिखने वाले संवाददाता अब नई सोच के लिए ऐपल के बजाय माइक्रोसॉफ्ट जैसे कंपनियों का सहारा ढूंढ रहे हैं.
  • ऐपल के कर्मचारी कहते हैं उनके लिए अब दफ्तर में काम करना आसान है लेकिन वो उस आपाधापी और उत्साह की कमी महसूस करते हैं.
  • इस साल भी ऐपल का मुनाफा बढ़ा है लेकिन वो उस सोच का नतीजा है जो से स्टीव जॉब्स अमली जामा पहना कर गए थे. क्या नए मुखिया टिम कुक भी स्टीव की तरह नया सोच पाएंगे?

बड़ी कंपनियां बहुत चीज़ों पर टिकी होतीं है और ऐपल के पास स्टीव जॉब्स और उनकी टीम से मिला बहुत कुछ है लेकिन ऐसा क्या है जो स्टीव जॉब्स के जाने से चला गया है.

  • स्टीव जॉब्स के साथ उनके सामान बेचने की कला भी चली गयी है.
  • जिस काम या चीज़ में कमी हो उसे निर्ममता से न करने का हनुर भी स्टीव जॉब्स के साथ चला गया है.
  • ऐसा चीज़ों की पहचान और उन्हें बारीकी से देखना जो बेहद साधारण दिखती हों कॉरपोरेट जगत को स्टीव जॉब्स ने सिखाया. ये कला भी कहीं उनके साथ ही न खो जाए.

हम ये जानते हैं कि मोबाइल और तकनीक का ज़माना अभी शुरु हुआ है और एक लंबी दौड़ अभी बाकी है लेकिन स्टीव जॉब्स जैसे लोगों की कमी शायद इस मायने में खलेगी कि हम ये नहीं जान पाएंगे कि इस सब के बीच हम ऐसा क्या करते रहें कि तकनीक हर हाल में हमें गुलाम न बना पाए.

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.