गिरफ़्तारी के बाद गूगल झूका

 शनिवार, 29 सितंबर, 2012 को 12:55 IST तक के समाचार

अब गूगल वीडियो को हटाने के लिए राज़ी हो गई है.

ब्राज़ील में गूगल ब्राज़ील के अध्यक्ष फेबियो होज़े सिल्वा कोएलो से बुधवार को एक वीडियों के सिलसिले में कुछ देर के लिए हिरासत में रख पूछताछ की गई, जिसके बाद गूगल ने यू ट्यूब से विवादित फ़िल्म को हटाने का फ़ैसला किया है.

एक लिखित बयान में कोएलो ने कहा कि अखिरी कानूनी अपील खारिज़ होने के बाद उनके पास कोई विकल्प नहीं बचा था.

बुधवार रात को सॉओ पॉलो में गूगल के ओपरेशन्स अध्यक्ष कोएलो से जासूसों ने पूछताछ की थी.

पुलिस ने पहले ही स्पष्ट कर दिया है कि वो हिरासत में नहीं रहेंगे क्योंकि ये मामला इतना बड़ा नहीं है.

"इस तरह के फैसले अभिव्यक्ति की आज़ादी पर बुरा असर डालेंगे."

होज़े सिल्वा कोएलो, अध्यक्ष, गूगल ब्राज़ील

क्षेत्रीय जज ने फैसला सुनाया कि ये फ़िल्म अगले महीने मेयर का चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवार की बेइज्ज़ती कर रही है.

न्यायधीश फ्लेवियो पेरन के आदेश के अनुसार ये वीडियो स्थानीय चुनावी कानूनों का उल्लंघन करता हैं और इस गूगल से हटा लेना चाहिए. इस आदेश के अनुसार ये वीडियो सोमवार तक हटाया जाना चाहिए था लेकिन ऐसा नहीं हुआ जिसके बाद कोएलो की गिरफ्तारी के आदेश दिए गए.

इस सिलसिले में इंटरनेट पर लगाई गई एक और फ़िल्म को लगाने वाले ने पहले से ही हटा लिया है.

कोएलो ने कहा है कि एक अंजान व्यक्ति द्वारा वीडियो को हटाया जाना दिखाता है कि “इस तरह के फैसले अभिव्यक्ति की आज़ादी पर बुरा असर डालेंगे.”

फेबियो कोऐलो ने कहा कि गूगल पर लगाए गए कंटेंट के लिए गूगल ज़िम्मेदार नहीं है.उन्होंने ज़ोर देकर कहा कि गूगल हर देश के काऩून का पालन करेगी.

“अगर कोई वीडियो किसी देश में गैरकानूनी है तो हम उस वीडियो को हटा देंगे बशर्ते कोई अदालत या सरकारी शिकायत गूगल को मिले. क्योंकि हम अभिव्यक्ति की आज़ादी को समर्पित हैं और अगर हमें उचित तर्क ना मिले तो हम शिकायत को नकार भी देते हैं.”

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.