धर्म के नाम पर मलेशिया में अमरीकी बैंड पर रोक

  • 6 सितंबर 2013
धार्मिक भावना आहत होने की बात कर शो पर रोक लगा दी गई.

मलेशिया की सरकार ने एक अमरीकी मेटल बैंड लैम्ब ऑफ गॉड को यह कहते हुए अनुमति देने से इनकार कर दिया है कि इससे देश की धार्मिक भावना आहत हो सकती है.

मुस्लिम बहुल देश मलेशिया में लैम्ब ऑफ गॉड को 28 सितंबर को शो करना था, लेकिन देश के संचार और मल्टीमीडिया मंत्रालय ने इस बैंड को अनुमति देने से इनकार कर दिया है.

इस शो के आयोजकों का कहना है कि बैंड के बारे में बिल्कुल गलत धारणा बनाई गई है.

पिछले सप्ताह इस्लामिक विकास विभाग ने भी इस समूह के शो को लेकर विरोध जताया था. मलेशियाई समाचार पत्र द स्टार के मुताबिक विभाग ने कहा था कि इस समूह का संगीत मेटल सॉन्ग कुरान की आयतों को मिलाकर बना हुआ है.

चर्चा का न्यौता

लैम्ब ऑफ गॉड ने एक बयान में कहा, ''यह बहुत दुखद और कुछ हद तक निराश करने वाला है कि जिन समूहों, पार्टियों और सत्ताधारियों ने हमारे संगीत और धुन को अभद्र माना है उन्होंने खुद उन गीतों के अर्थ और तत्व को लेकर केवल मामूली टिप्पणी की है.''

उन्होंने कहा, ''हम अपने संगीत से आहत किसी भी व्यक्ति को अपने काम के पीछे सही मायने में प्रेरणा होने की बात पर चर्चा के लिए आमंत्रित करते हैं. हम विशेषकर सतही व्याख्या के आधार पर सार्वजनिक आलोचना करने के कारण चर्चा करना चाहते हैं.'

साल 2010 में इस बैंड के चेहरा रहे रैंडी ब्लाइथे पर चेक गणराज्य में एक फैन को कथित तौर पर स्टेज से धकेलने के कारण हत्या का आरोप लगा था.

इस दौरान उस इंसान के सिर में चोट लग गई थी और कुछ सप्ताह के बाद उसकी मौत हो गई थी.

मार्च में एक चेक अदालत ने ब्लाइथे को बरी कर दिया था.

मलेशिया पहले भी पश्चिमी देशों के शोज पर प्रतिबंध लगाता रहा है.

पिछले साल उसने अमरीकी गायिका एरीक बडू के शो पर प्रतिबंध लगा दिया था. बडू के शरीर पर अल्लाह के टैटू वाली तस्वीर सामने आने के बाद शो पर रोक लगाई गई थी.

(क्या आपने बीबीसी हिन्दी का नया एंड्रॉएड मोबाइल ऐप देखा? डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार