बाढ़ से 30 मौतें, लाखों प्रभावित

  • 18 अगस्त 2014
बाराबंकी में बाढ़

उत्तर भारत में बाढ़ से लाखों लोग प्रभावित हुए हैं. जहां यूपी में बाढ़ के कारण 28 लोग मारे गए हैं वहीं बिहार से नौ लोगों के मरने की ख़बर है.

समाचार एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक़ यूपी में क़रीब 1500 गांव प्रभावित हुए हैं.

अधिकारियों ने बताया कि बहराइच ज़िले में तक़रीबन 12 लोग बाढ़ के पानी के साथ बह गए, वहीं राप्ती नदी में नाव पलटने के कारण अन्य छह लोगों की डूबने से मौत हो गई.

देखिए तस्वीरेंः भारत में बाढ़ का कहर

उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव आलोक रंजन ने बताया, "नेपाल में भारी बारिश के कारण नदियां उफ़ान पर हैं, जिसका असर उत्तर प्रदेश पर भी पड़ा है."

यूपी के स्थानीय पत्रकार अतुल चंद्रा ने बीबीसी को बताया कि बहराइच के अलावा श्रावास्ती, बलरामपुर, लखीमपुर खीरी, बाराबंकी और गोंडा ज़िले बाढ़ से प्रभावित हैं.

बिहार में 11 लाख लोग प्रभावित

बिहार, नालंदा में बाढ़

बिहार से स्थानीय पत्रकार मनीष शांडिल्य ने बताया वर्तमान में बिहार में 13 ज़िलों की लगभग ग्यारह लाख की आबादी बाढ़ से प्रभावित है. प्रशासन प्रभावित ज़िलों में से 37 हज़ार से ज़्यादा लोगों को सुरक्षित निकाल चुका है.

हालांकि राज्य के आपदा प्रबंधन विभाग के संयुक्त सचिव सुनील कुमार ने बीबीसी को बताया कि राज्य की प्रमुख नदियों का जल स्तर तेजी से घट रहा है.

राज्य में अब तक सबसे ज़्यादा छह लोगों की मौत नालंदा ज़िले में, दो की मौत सहरसा में और एक की सीतामढ़ी में हुई है.

बिहार में कुल 13 ज़िले बाढ़ से प्रभावित है जिनमें सहरसा, दरभंगा, पश्चिमी चंपारण और नालंदा में हालात ज़्यादा ख़राब हैं.

असम में बाढ़ की स्थिति गंभीर

असम में बाढ़

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़ रविवार को ब्रह्मपुत्र और सहायक नदियों के जलस्तर में बढ़ोत्तरी के कारण असम में बाढ़ की स्थिति गंभीर हो गई है.

यहां लखीमपुर, धीमाजी, सोनितपुर, नागांव, मोरीगांव और डिब्रूगढ़ ज़िले में बाढ़ से जनजीवन पर असर पड़ा हैं.

असम में बाढ़

बाढ़ के कारण कांजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान में भी पानी भर गया है. जानवर अपने बचाव के लिए ऊंचे स्थानों पर शरण ले रहे हैं.

हिमाचल में बाढ़

हिमाचल प्रदेश के मंडी ज़िले में भारी बारिश और बादल फटने की घटनाएं हुई हैं.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार