BBC navigation

दहेज क़ानून का 'दुरुपयोग' हो रहा है

 गुरुवार, 3 जुलाई, 2014 को 15:19 IST तक के समाचार
भारत का सुप्रीम कोर्ट

सर्वोच्च न्यायालय ने दहेज विरोधी क़ानून के दुरुपयोग पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा है कि ऐसे मामलों में पुलिस स्वत: ही अभियुक्त को गिरफ़्तार नहीं कर सकती.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़ शीर्ष अदालत ने कहा अगर पुलिस किसी को ऐसे मामलों में गिरफ़्तार करती है तो उसे इसकी वजह बतानी होगी जिसकी न्यायिक समीक्षा की जाएगी.

ससुराल पक्ष के हाथों महिलाओं के शोषण को रोकने के लिए ही साल 1983 में भारतीय दंड संहिता में धारा 498ए जोड़ी गई थी.

दहेज उत्पीड़न के अधिकतर मामलों में पुलिस आरोपों की सत्यता की जाँच के बिना ही महिला की ओर से नामज़द अभियुक्तों को सबसे पहले गिरफ़्तार करती है और बाद में आगे की कार्यवाही करती है.

चिंता

जस्टिस चंद्रमौली कुमार और जस्टिस पिनाकी चंद्र घोष की खंडपीठ ने कहा, "संज्ञेय और ग़ैर ज़मानती धारा होने के कारण असंतुष्ट पत्नियाँ इसका इस्तेमाल रक्षा कवच के बजाय हथियार के तौर पर कर रही हैं."

अदालत ने इस तथ्य की तरफ इशारा किया कि साल 2012 में इस धारा के तहत गिरफ़्तार होने वाले लोगों में एक चौथाई महिलाएं थीं जिनमें से अधिकतर आरोपी पतियों की बहनें और माएं थीं.

अदालत ने कहा, "हम मानते हैं कि कोई भी गिरफ़्तारी सिर्फ़ इसलिए नहीं की जानी चाहिए कि यह धारा संज्ञेए और ग़ैर ज़मानती हैं. पुलिस को भी अपनी रूढ़ मानसिकता से निकलना होगा."

न्यायालय ने यह फ़ैसला बिहार के एक व्यक्ति की ओर से दायर याचिका पर दिया जिसने पत्नी की ओर से दायर दहेज उत्पीड़न के मामले में अग्रिम ज़मानत माँगी थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए क्लिक करें यहां क्लिक करें. आप हमें क्लिक करें फ़ेसबुक और क्लिक करें ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.