दहेज हत्याओं में यूपी अव्वल नंबर पर

  • 2 जुलाई 2014
भारतीय महिला

राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो के मुताबिक़ भारत में पिछले वर्ष दहेज हत्या के 8,083 मामले प्रकाश में आए. इनमें क़रीब एक चौथाई मामले (2,335) सिर्फ उत्तर प्रदेश से हैं.

बिहार और मध्य प्रदेश 1,182 और 7,76 दहेज हत्या के मामलों के साथ क्रमशः दूसरे और तीसरे स्थान पर हैं.

दहेज हत्या की दर के मामले में राष्ट्रीय औसत 1.36 है जबकि उत्तर प्रदेश में यह दर 2.36 है.

उत्तर प्रदेश की महिला आबादी क़रीब नौ करोड़ 88 लाख है और बिहार में महिला आबादी चार करोड़ 85 लाख है. आँकड़ों के अनुसार, बिहार में दहेज हत्या की दर सबसे अधिक 2.43 है.

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में दहेज हत्या के 144 मामले दर्ज हुए.

सिक्किम, मिज़ोरम, मणिपुर, अरुणाचल प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, गोवा, लक्षदीप और दमन दीव में दहेज हत्या का एक भी मामला दर्ज नहीं हुआ.

वर्ष 2013 में पूरे देश में जितने मामले दर्ज हुए उनमें 28.89 प्रतिशत अकेले उत्तर प्रदेश से थे.

मामूली सुधार

ये आंकड़े वे हैं जो पुलिस थानों में दर्ज हुए जबकि देश में बहुत से मामले थानों तक पहुंच ही नहीं पाते.

वर्ष 2012 में देश भर में दहेज हत्या के 8,233 मामले दर्ज हुए थे. इस हिसाब से 2013 में बहुत मामूली सुधार हुआ है.

वर्ष 2012 में दहेज हत्या के सबसे अधिक 2,511 मामले आंध्र प्रदेश से दर्ज किए गए थे.

उस वर्ष ओडिशा से 1,487 मामले दर्ज हुए थे और अपराध दर के लिहाज से राष्ट्रीय औसत 1.5 के मुकाबले ओडिशा की दर 7.3 थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)