BBC navigation

नरेंद्र मोदी की ट्रेन में महंगा होगा सफ़र

 शुक्रवार, 20 जून, 2014 को 19:07 IST तक के समाचार
भारतीय रेल

भारतीय रेल में सफ़र करना 25 जून से महंगा होने वाला है. केंद्र सरकार ने रेल किराए में बढ़ोतरी करने का फ़ैसला किया है.

यात्री किराए में 14.2 फ़ीसदी बढ़ोतरी की गई है. जबकि माल भाड़े में बढ़ोतरी 6.5 फीसदी की होगी.

रेल मंत्री सदानंद गौड़ा ने हाल ही में रेल किराए में बढ़ोतरी के संकेत दिए थे.

केंद्र सरकार का कहना है कि पिछली सरकार ने जो अंतरिम बजट पेश किया था उसमें रेल यात्री किराए और माल भाड़े की दर में संशोधन लाने का फैसला लिया गया था.

हालांकि संशोधित दरों को पिछली सरकार को चुनाव के कारण वापस लेना पड़ा था. सरकार का कहना है कि जब तक संशोधित दरों को लागू नहीं किया जाएगा, वार्षिक ख़र्च को पूरा करना मुश्किल होगा.

25 जून या उसके बाद की यात्रा के ऐसे टिकट जो रेल किराए में बढ़ोतरी के पहले ख़रीद लिए गए थे उन पर भी बढ़ा हुआ किराया लागू होगा. किराए में अंतर को ट्रेन की यात्रा के दौरान टीटीई या बुकिंग/रिज़र्वेशन ऑफ़िस वसूलेंगे.

आरक्षण शुल्क, सुपरफ़ास्ट चार्ज में कोई बदलाव नहीं होगा.

'महंगाई बढ़ेगी'

इसलिए संशोधित किराए और माल भाड़े की दर को वापस लेने के फैसले को रद्द कर दिया गया है.

इस फ़ैसले पर प्रतिक्रिया देते हुए पूर्व रेल मंत्री नीतीश कुमार ने कहा, "जो भी करना था वो रेल बजट के दौरान करना चाहिए था. उस समय उन्हें औचित्य बताना चाहिए था. मुझे भी पाँच बार का तजुर्बा है. ये बजट पूर्व नहीं करना चाहिए था. इसका ज़िक्र बजट प्रस्ताव में होना चाहिए था."

नीतीश कुमार का कहना था, "इससे महँगाई बढ़ेगी और ये आने वाले अच्छे दिनों का संकेत है."

वहीं फ़ैसले की आलोचना करते हुए कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने कहा, "भाजपा जब विपक्ष में थी तो जब भी किराए बढ़ाने की बात होती थी तो इनकी ओर से तीखी प्रतिक्रिया आती थी कि सरकार आम आदमी के उपर भार डाल रही है और सरकार में आते ही पहला काम इन्होंने आम आदमी पर भार डालने की जो प्रक्रिया है उसे बहुत बड़ा प्रोत्साहन दिया है 14 फीसदी रेल का किराया बढ़ा कर."

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे क्लिक करें फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और क्लिक करें ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.