मछुआरों की रिहाई के साथ बेहतर रिश्तों के संकेत

  • 25 मई 2014

भावी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में शिरकत करने से पहले पाकिस्तान और श्रीलंका ने सौहार्द्रपूर्ण रिश्तों के संकेत दिए हैं और भारतीय मछुआरों को रिहा कर दिया है.

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ और श्रीलंका के राष्ट्रपति महिंद्रा राजपक्षे सोमवार को मोदी के शपथग्रहण समारोह में शामिल होने के लिए दिल्ली पहुंच रहे हैं.

नवाज़ शरीफ़ के साथ राष्ट्रीय सुरक्षा और विदेश मामलों के सलाहकार सरताज़ अज़ीज़, विशेष सहायक तारिक़ फ़ातमी और विदेश सचिव एजाज़ चौधरी भी रहेंगे.

पिछले दिनों प्रधानमंत्री कार्यालय ने शरीफ़ की यात्रा से रहस्य का पर्दा उठाते हुए उनके भारत आने की घोषणा की, जिसका विरोध इस्लामाबाद में कट्टरपंथी कर रहे हैं.

सरकारी रेडियो आकाशवाणी के मुताबिक़ मंगलवार को नवाज़ शरीफ़ राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी से मुलाकात करेंगे और मंगलवार को नरेंद्र मोदी के साथ द्विपक्षीय बैठक करेंगे.

छह सार्क देशों मसलन श्रीलंका, अफ़गानिस्तान, भूटान, नेपाल, मालदीव और बांग्लादेश ने पहले ही शपथ समारोह में शामिल होने की पुष्टि कर दी है.

भूटान के प्रधानमंत्री त्सेरिंग टोगबे भी रविवार को चार दिवसीय यात्रा पर आ रहे हैं और वह भी शपथ समारोह में हिस्सा लेंगे और मंगलवार को मोदी और अन्य नेताओं से मुलाकात करेंगे.

राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी सोमवार शाम क़रीब 100 मेहमानों के लिए भोज की मेज़बानी करेंगे, जिसमें विदेश से आने वाले गणमान्य लोगों के अलावा नए मंत्री भी होंगे.

बातचीत का दौर

भारतीय मछुआरे

भाजपा नेताओं और उनके सहयोगियों के बीच नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र में बनने वाली सरकार को लेकर बातचीत जारी है.

नई दिल्ली के गुजरात भवन में नरेंद्र मोदी से भाजपा नेताओं, अमित शाह, उमा भारती, जेपी नड्डा, वेंकैया नायडू और अनंत कुमार ने मुलाक़ात की है.

राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के सहयोगी रिपब्लिकन पार्टी ऑफ़ इंडिया के रामदास अठावले ने भी मोदी से मुलाक़ात की है.

इसके अलावा कई नेता भाजपा अध्यक्ष राजनाथ सिंह से भी मिल चुके हैं.

इनमें भाजपा महासचिव रामलाल, पार्टी सांसद मेनका गांधी, उदित राज और राज्यसभा सदस्य विजय गोयल शामिल हैं.

राजग सरकार में पूर्व केंद्रीय मंत्री रहे आईडी स्वामी और तेलगुदेशम पार्टी के प्रमुख एन चंद्रबाबू नायडू ने भी राजनाथ सिंह से मुलाकात की.

आंध्र प्रदेश के भावी मुख्यमंत्री ने पहले ही यह घोषणा कर दी है कि उनकी पार्टी भाजपा के नेतृत्व वाली राजग सरकार में शामिल होगी.

पड़ोसी देशों की पहल

भारतीय मछुआरे

सरकारी रेडियो के मुताबिक़ श्रीलंका के राष्ट्रपति महिंद्रा राजपक्षे ने भारत-श्रीलंका के रिश्ते मज़बूत करने की पहल की है.

इसके तहत श्रीलंका में क़ैद सभी भारतीय मछुआरों को रिहा करने का आदेश दिया गया है.

राष्ट्रपति के प्रवक्ता ने आकाशवाणी को बताया है कि राष्ट्रपति की नई दिल्ली यात्रा से पहले ये आदेश दिए गए. हालांकि श्रीलंका के मत्स्य मंत्रालय के अधिकारी यह नहीं बता सके कि फ़िलहाल कितने भारतीय मछुआरे हिरासत में हैं.

इससे पहले नरेंद्र मोदी के शपथ ग्रहण समारोह से पहले पाकिस्तान ने भी सौहार्द्र संकेत देते हुए 151 भारतीय मछुआरों को रिहा करने की घोषणा की थी.

कराची की मलीर जेल में भारतीय मछुआरे क़ैद हैं. जिसके एक जेल अधिकारी ने सरकारी रेडियो से पुष्टि की कि उन्हें मछुआरों की रिहाई के आदेश मिले हैं. इन मछुआरों को लाहौर के वाघा बॉर्डर ले जाया जा रहा है.

इस क्षेत्र से जुड़े सक्रिय कार्यकर्ताओं के मुताबिक़ फ़िलहाल क़रीब 229 मछुआरे और करीब 780 भारतीय नौकाएं पाकिस्तान के क़ब्ज़े में हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)