ट्विटर पर कैसे ट्रेंड करते हैं 'फेकू, पप्पू और पल्टू'?

  • 15 मई 2014

देश के कोने-कोने में कई हफ़्तों चली चुनावी प्रक्रिया खत्म होने के बाद चुनावी रैलियों और साथ ही हो रहे प्रचार पर विराम लग गया है.

लेकिन आम चुनावों के अलावा भी कांग्रेस के राहुल गांधी, भाजपा के नरेंद्र मोदी और आम आदमी पार्टी के अरविंद केजरीवाल के बीच एक जंग और लड़ी गई और वो था ट्विटर युद्ध.

बीते क़रीब दो महीनों में तीनों नेताओं के समर्थकों के बीच ट्विटर पर जमकर वाद-विवाद हुआ. कई बार चर्चाएं अपनी सीमाएं लांघती हुई भी दिखीं.

एक अप्रैल के दिन #केजरीदिवस से लेकर #मोदीयापा तक, एक दूसरे के नेताओं पर निशाना साधने का सिलसिला पूरे महीने चला. कहानी ‘फेकू’, ‘पप्पू’ और ‘पल्टू’ से काफ़ी आगे निकल चुकी है.

बड़ी बात ये है कि ये हैशटैग्स हमेशा भारत के टॉप ट्रेंड में दिखे, चाहे देश में और कुछ कितना ही महत्वपूर्ण क्यों न हो रहा हो.

भारत में क़रीब चार करोड़ ट्विटर यूज़र्स है, जो कई तरह से विषयों पर चर्चा करते हैं. तो आख़िर क्यों कुछ ही हैशटैग हमेशा ट्रेंड करते दिखते हैं.

आइए जानते हैं तकनीकी मामलों के जानकार प्रशांतो कुमार रॉय से, क्या है ट्विटर ट्रेंड और आख़िर राजनीतिक हैशटैग क्यों करते हैं ट्रेंड?

क्या होता है ट्विटर ट्रेंड?

ट्विटर ट्रेंड्स एक तरह से वहां हो रही चर्चा के विषय या उसकी तीव्रता का परिचायक है. जो कुछ भी ट्विटर पर कहा, पढ़ा जा रहा है, ये उसका पैमाना होता है.

ट्रेंड्स अपने आप में काफ़ी महत्वपूर्ण हैं, क्योंकि ये बताते हैं कि कौन से मुद्दे, लोग या जगह चर्चा में हैं.

इसलिए जब कहा जाता है कि मोदी या राहुल गांधी ट्रेंड कर रहे हैं तो इसका मतलब होता है कि उन लोगों के बारे में चर्चाएं ज़्यादा हो रही है.

कैसे काम करता है ट्विटर ट्रेंड?

ट्विटर ट्रेंड में उलटफेर करना आसान है, ये इस बात पर निर्भर करता है कि कितने लोग किसी हैश टैग का प्रयोग करते हैं.

हालांकि किसी व्यक्ति के तौर पर अकेले ट्रेंड सेट करना थोड़ा कठिन हो सकता है, लेकिन किसी समूह के तौर पर इसे करना ज़्यादा आसान है.

राजनीतिक हैशटैग्स को ट्विटर ट्रेंड बनाना आसान है:

  • उदाहरण के तौर पर एक पक्ष लिखेगा पप्पू और दूसरा लिखेगा फेकू और फिर इसे समर्थकों के बीच फैला दिया जाएगा.
  • इस तरह से ये हैशटैग तीन-चार लोगों के गुट से निकलकर समूहों और फिर आम जनता तक पहुंच जाएगा. एक तरह से चुने गए हैशटैग्स से विस्फोट हो जाएगा.
  • जितने लोग उपरोक्त हैशटैग का प्रयोग करेंगे उतना ही ऊपर ट्रेंड दिखेगा.

लेकिन ये ट्विटर के नियमों का उल्लंघन है, क्योंकि आप किसी एक विषय के ट्वीट पर किसी अन्य विषय के हैशटैग केवल ट्रेंड बनाने के लिए नहीं लगा सकते.

क्या हैं ट्रेंड्स से जुड़ी ट्विटर गाइडलाइंस?

ट्विटर गाइडलाइंस के अनुसार अपने ट्वीट के साथ विषय से संबंधित हैशटैग शब्द या वाक्य जोड़कर पोस्ट किया जाना चाहिए.

चूंकि ऐसा हो सकता है कि कई लोग एक साथ किसी चर्चित हैशटैग पर पोस्ट कर रहे हों और आपको कॉमन फीड में आपकी पोस्ट न दिखे. हालांकि वो हमेशा आपके अपने प्रोफ़ाइल फीड में मौजूद रहता है.

ट्विटर ट्रेंड के साथ छेड़छाड़ संभव है, लेकिन ऐसा करते हुए पाए जाने पर संबंधित अकाउंट सर्च से हटाया जा सकता है या फिर उस अकाउंट को रद्द भी किया जा सकता है.

आइए जानते हैं ट्विटर पर क्या-क्या करना वर्जित है:

  • किसी ट्वीट में ऐसा हैशटैग डालना जिसका उसके मूल विषय से कोई लेना देना न हो.
  • सर्च में ऊपर दिखने के लिए बार-बार उद्देश्यहीन तरीके से ट्वीट करना.
  • ट्रेंड सेट करने के लिए हैशटैग लगाकर बार-बार एक ही ट्वीट कॉपी-पेस्ट करते रहना.
  • हर ट्रेंड के बारे में ट्वीट करना और साथ में विज्ञापन के लिए वाक्य, शब्द जोड़ना.
  • किसी ट्रेंड के बारे में ट्वीट करना और साथ में गैरज़रूरी लिंक पेस्ट करना.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं)

संबंधित समाचार