जहाँ 'बुलेट राजा' 'भगवान' और ड्राइवर 'भक्त' हैं

  • 8 मई 2014
सड़क हादसे में मारे गए ओम बना की मोटर साइकिल
ओम बना की इस मोटर साइकिल को सड़क किनारे बने एक मंदिर में रखा गया है.

भारत के उत्तर पश्चिमी राज्य राजस्थान में सड़क किनारे बने एक मंदिर में लोग एक मोटर साइकिल की पूजा करने जाते हैं.

इस मोटर साइकिल का नाम 'बुलेट राजा' है और इसके बारे में माना जाता है कि यह गाड़ी चलाने वाले ड्राइवरों की रक्षा करती है. 'न्यूज़18 राजस्थान' की रिपोर्ट के मुताबिक राजस्थान के बंदाई गाँव में श्रद्धालु सुरक्षित यात्रा के लिए 'रॉयल एनफ़ील्ड बुलेट' के पास प्रार्थना के लिए आते हैं.

(सड़क हादसे में 18 लोगों की मौत)

एक श्रद्धालु ने बताया, "मैं यहाँ कई बार आया हूँ. मैं जब भी यहाँ से होकर गुजरता हूँ तो आगे की सुरक्षित यात्रा के लिए 'ओम बन्ना' के पास आशीर्वाद लेने जरूर आता हूँ." ये साल 1988 की बात है जब ओम बना नाम के एक नौजवान की मौत सड़क हादसे में हो गई थीं.

हादसे में ओम बना की 350 सीसी की मोटर साइकिल एक पेड़ से टकरा गई थी. स्थानीय लोगों का कहना है कि दुर्घटना के बाद मोटर साइकिल हादसे की जगह पर खुद आ जाया करती थी.

ये सिलसिला तब भी जारी रहा जब पुलिस के एक अफसर ने उस मोटर साइकिल को पंजाब पहुँचा दिया. कुछ लोगों का ये मानना है कि उस मोटर साइकिल में कुछ 'परालौकिक शक्तियाँ' थीं. 'न्यूज़18' को एक युवक ने बताया कि ओम बना के भूत ने उसे 20 हज़ार रुपये दिए थे.

मोटर साइकिल

रॉयल इन्फ़ील्ड बुलेट
भारत में रॉयल एन्फ़ील्ड बुलेट एक लोकप्रिय मोटर साइकिल है.

इस मंदिर में शीशे के एक बक्से में मोटर साइकिल रखी गई है. उसे फूलों की माला से सजाया गया है. लोग उस पेड़ के पास जाकर पूजा अर्चना करते हैं, जहाँ ये हादसा हुआ था.

(हौसले और भरोसे की नई छलांग)

ब्रिटेन के एक सैलानी ने इस मंदिर के लिए ट्रिपएडवाइज़र पर एक पेज बना रखा है. उन्होंने लिखा है कि ये जगह उनके लिए खुशकिस्मत है. दरअसल पिछली यात्रा के दौरान खो गया एक कैमरा उन्हें इसी जगह पर दोबारा मिल गया था.

भारत में सड़क किनारे मंदिरों का बनना कोई असामान्य बात नहीं है लेकिन कई बार सरकारी अधिकारियों का कहना होता है कि इससे ट्रैफ़िक की समस्या बढ़ती है. साल 2009 में भारत के सुप्रीम कोर्ट ने सरकारी ज़मीन पर धार्मिक इमारतों या भवनों के निर्माण पर रोक लगा दी थी लेकिन इसका असर पहले से मौजूद मंदिरों पर नहीं पड़ा.

अंग्रेजी अख़बार 'टाइम्स ऑफ़ इंडिया' ने उस वक्त ये ख़बर दी थी कि सड़क के बीचों बीच बने एक धार्मिक स्थल की वजह से दो समुदायों के बीच तनाव भड़क गया था.

( बीबीसी मॉनिटरिंग दुनिया भर के टीवी, रेडियो, वेब और प्रिंट माध्यमों में प्रकाशित होने वाली ख़बरों पर रिपोर्टिंग और विश्लेषण करता है. आप बीबीसी मॉनिटरिंग की खबरें ट्विटर और फेसबुक पर भी पढ़ सकते हैं.)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार