आप उम्मीदवार का ज़मानत पर बाहर आने से इनकार

  • 25 अप्रैल 2014
बल्ली सिंह चीमा

उत्तराखंड में नैनीताल लोकसभा सीट से आम आदमी पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़ रहे उम्मीदवार बल्ली सिंह चीमा ने अपनी गिरफ़्तारी के बाद ज़मानत पर बाहर आने से इनकार कर दिया है और पार्टी के राष्ट्रीय नेताओं से इस मामले में चुप्पी तोड़ने की मांग की है.

राज्य में आम आदमी पार्टी के चुनाव समन्वयक शमशेर सिंह बिष्ट ने इस पूरे वाक़ये के बारे में बीबीसी को बताया, ''ये घटना 19 अप्रैल की है. चीमा अपने साथियों के साथ प्रचार कर रहे थे. रुद्रपुर के पास एक चौराहे पर भाजपा के कुछ लोगों ने लाठियों से उन पर हमला करने की कोशिश की. लोग चले गए और मामला शांत हो गया.''

वे बताते हैं, ''20 अप्रैल को पुलिस के एक सर्किल ऑफिसर आते हैं और चीमा की प्रचार गाड़ी को रोककर गाड़ी के काग़ज़ात मांगे. ड्राइवर ने काग़ज़ात दिखाए लेकिन सर्किल ऑफिसर ने उन्हें फेंक दिया और गाड़ी ज़ब्त कर ली.''

उत्तराखंड के मुख्य निर्वाचन अधिकारी राधा रतोड़ी से बीबीसी ने जब इस बारे में बात करने की कोशिश की तो उन्होंने बात करने से मना कर दिया.

नैनीताल के ज़िलाधिकारी से भी इस बारे में बात नहीं हो पाई.

चुप्पी आख़िर क्यों

बिष्ट बताते हैं कि अगले दिन चीमा ने जब ज़िला निर्वाचन अधिकारी से इसकी शिक़ायत की तो उन्होंने गाड़ी को छोड़ने का आदेश दिया गया, लेकिन आदेश के बावजूद पुलिस ने गाड़ी नहीं छोड़ी जिसके विरोध में चीमा धरने पर बैठ गए और पुलिस ने उन्हें गिरफ़्तार कर लिया.

बिष्ट का दावा है कि चीमा की गिरफ़्तारी असंवैधानिक है, इसलिए उन्होंने अपनी ज़मानत की अर्ज़ी नहीं दी है और वे अब जेल में बंद रहकर ही चुनाव लड़ेंगे.

बिष्ट का कहना है कि इस पूरे मामले से आम आदमी पार्टी के आला नेताओं को अवगत कराया गया है.

उनका कहना है कि राष्ट्रीय स्तर के नेताओं को इस मामले पर बोलना चाहिए, जो इस मामले पर अब तक ख़ामोश हैं.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉइड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप बीबीसी हिंदी के फ़ेसबुक और ट्विटर पेज से भी जुड़ सकते हैं)

संबंधित समाचार