BBC navigation

डुप्लीकेट नेताओं के भरोसे तमिलनाडु में चुनाव प्रचार

 बुधवार, 19 मार्च, 2014 को 16:27 IST तक के समाचार
एमजीआर, विजयकांत के हमशक्ल

वह बीते वक़्त की बातें बेचते हैं. यह संभवतः ऐसी चीज़ है जो देश में कहीं और समझी भी न जा सके. लेकिन यह दक्षिण भारत के राज्य तमिलनाडु में बेची जा सकती है.

तो अपनी कलाकारी दिखाने के लिए चुनाव से अच्छा मौका और कौन सा हो सकता है. हम बात कर रहे हैं हमशक्ल कलाकारों की. चाहे वो स्वर्गीय एमजी रामचंद्रन हों या विजयकांत, सभी के हमशक्ल मौजूद हैं और चुनाव प्रचार में जुटे हैं.

रामचंद्रन एआईएडीएमके के संस्थापक थे और विजयकांत डीएमडीके के.

त्यागराजन और कुमार इन दोनों मशहूर कलाकारों के गाने गाते हैं, उनकी आवाज़ की नकल करते हैं, नाचते हैं और बच्चों को उसी तरह आशीर्वाद देते हैं जैसे एमजीआर दिया करते थे या फिर जैसे विजयकांत, जिन्हें कैप्टन भी कहते हैं.

लोगों को आश्चर्य हो सकता है कि इतने प्रसिद्ध कलाकार अब तक कैसे बिक रहे हैं तो इसका जवाब है कि फ़िल्में तमिलनाडु की राजनीति का अंतर्निहित तत्व है. वो सभी फ़िल्मी दुनिया से आए हैं और राजनीति में आज भी चलते हैं.

गायक, मिमिक्री आर्टिस्ट

एमजीआर के हमशक्ल त्यागराजन और विजयकांत के हमशक्ल कुमार की मांग चुनाव के दौरान कई गुना बढ़ जाती है. 59 साल के त्यागराजन बताते हैं, "अब तक पांच लोग मुझे बुक कर चुके हैं."

वहीं 42 वर्षीय कुमार कहते हैं, "यह चुनाव का समय है और जैसे-जैसे प्रचार ज़ोर पकड़ेगा, हमारी मांग भी बढ़ती जाएगी."

त्यागराज और कुमार नियमित रूप से प्रत्याशियों के साथ उनके चुनाव क्षेत्रों में जाते हैं.

एमजीआर हमशक्ल

त्यागराजन कहते हैं, "जब प्रत्याशी अपनी खुली जीप में जाते हैं तो मैं उनके साथ खड़ा रहता हूं. मैं लाल टाई पहनता हूं, जो एमजीआर हमेशा पहनते थे. उनकी तरह मैं काला चश्मा भी पहनता हूं. मैं खड़ी भीड़ की ओर हाथ हिलाता हूं. अगर लोग आकर मुझसे हाथ मिलाते हैं तो इसका मतलब है कि मैं ध्यान खींचने में सफल रहा हूं."

दोनों पेशेवर गायक हैं. त्यागराजन कहते हैं, "टीएम सौंदरराजन एमजीआर के लिए गाते थे. मेरी आवाज़ उनसे मिलती है और मैं एमजीआर के बेहद लोकप्रिय गाने गाता हूं. वैसे राजनीतिक रैलियों में तो वो अब भी लोकप्रिय हैं."

राजनीतिक दलों को हमशक्ल कलाकार उपलब्ध करवाने वाले 'एवरी सेकेंड' कंपनी के सतीश कुमार बताते हैं कि कुमार एक मिमिक्री आर्टिस्ट हैं. वे कहते हैं, "विजयकांत की आवाज़ अलग है. कुमार उनकी आवाज़ निकालते हैं. एमजीआर और विजयकांत दोनों का डांस करने का अलग अंदाज़ है."

सतीश कुमार कहते हैं, "चुनाव के दौरान जैसे-जैसे मांग बढ़ती है हम त्यागराजन के अलावा दूसरे कलाकार भी उपलब्ध करवाते हैं. हमारे पास तीन एमजीआर हैं. हमारे पास "एमजीआर" शिवा था जो एमजीआर की तरह गाने और नाचने में माहिर था लेकिन हाल ही में पीलिया से उसकी मौत हो गई."

सब एमजीआर की बदौलत

सतीश कुमार कहते हैं कि उनकी कंपनी के पास डीएमके प्रमुख एम करुणानिधि और एआईडीएमके प्रमुख और मुख्यमंत्री जे जयललिता के हमशक्ल भी हैं.

उन्होंने बीबीसी को बताया, "जब चुनाव नहीं होते तब एमजीआर के हमशक्ल सबसे ज़्यादा व्यस्त रहते हैं. उसे महीने में कम से कम दो या तीन बार मुंबई जाना पड़ता है. वह मलेशिया, श्रीलंका, मालदीव, सिंगापुर और बर्मा भी जाते हैं. विजयकांत के हमशक्ल भी मलेशिया और दुबई जाते रहते हैं."

उनकी मांग और दाम अलग-अलग रहते हैं, यह मौसमी है. दोनों लाइव म्यूज़िक कार्यक्रमों और शादी समारोहों में भी भाग लेते हैं. टीवी कार्यक्रमों ने यकीनन उनकी कमाई बढ़ा दी है.

त्यागराजन कहते हैं, "मैं एक बार जाने के दो हज़ार से तीन हज़ार रुपए तक कमा लेता था. लेकिन टीवी कार्यक्रमों के चलते यह दाम बढ़ गए हैं. आजकल हम सुबह 9 से शाम के 6.30 बजे तक के कार्यक्रम के पांच हज़ार रुपए तक कमा लेते हैं."

एमजीआर हमशक्ल

कुमार कहते हैं, "विदेश जाने पर हम इससे कहीं ज़्यादा कमाते हैं. तब दाम 12 हज़ार से 20 हज़ार रुपए तक हो जाते हैं."

त्यागराजन बताते हैं, "मैं एमजीआर की नकल किया करता था. एक दिन मेरी मां ने कहा कि मुझे एमजीआर की तरह फ़र की टोपी पहनकर गाना और नाचना चाहिए. मैंने कोशिश की और तब से मैं अपनी रोज़ी-रोटी कमा रहा हूं. यह सब एमजीआर की बदौलत है."

कुमार की कहानी भी कुछ ऐसी ही है, "लोगों ने मुझे बताया कि मैं विजयकांत जैसा लगता हूं. मैं उनकी तरह बोलता और नाचता हूं."

और दोनों यह काम करीब दो दशक से कर रहे हैं.

एमजीआर अब नहीं रहे. विजयकांत के पास अब अभिनय के लिए समय नहीं है और वह इस वक़्त बीजेपी, पीएमके और डीएमडीके गठबंधन का नेतृत्व करने में व्यस्त हैं.

लेकिन मनोरंजन करने वालों से सामाजिक भलाई के नायक बनने की उनकी विरासत को तमिल जनता का प्यार मिलना कभी भी बंद नहीं हुआ और अब उसे उनके हमशक्ल जारी रखे हुए हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए क्लिक करें यहां क्लिक करें. आप हमें क्लिक करें फ़ेसबुक और क्लिक करें ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.