BBC navigation

चेन्नई की चंद्रिका भी हैं मलेशियाई विमान में

 मंगलवार, 11 मार्च, 2014 को 18:04 IST तक के समाचार
चंद्रिका शर्मा

चंद्रिका शर्मा के परिजनों के तब होश उड़ गए जब उन्हें पता चला कि मलेशियाई एयलाइंस का विमान एमएच-370 लापता है. एनजीओ कार्यकर्ता चंद्रिका शर्मा इसी विमान में सवार हैं.

यह क्लिक करें विमान मलेशिया की राजधानी कुआलालंपुर से चीन की राजधानी बीजिंग जा रहा था, लेकिन उड़ान भरने के कुछ घंटे बाद से ही यह लापता है.

मलेशियाई विमान के लापता होने के चार दिन गुज़र जाने के बाद भी क्लिक करें एयरलाइंस के अधिकारियों की ओर से न ही चंद्रिका के पति केएस नरेंद्रन को और न ही जिस एनजीओ में काम करती हैं, उसे कोई ख़बर दी गई.

चंद्रिका इंटरनेशनल कलेक्टिव इन सपोर्ट ऑफ फ़िशरफोल्क (आईसीएसएफ़) नामक एनजीओ में काम करती हैं.

51 साल की चंद्रिका हरियाणा की हैं और शादी के बाद पिछले 20 सालों से चेन्नई में रह रही हैं. चंद्रिका के पति चेन्नई के मूल निवासी हैं. चंद्रिका के परिजन और सहयोगी उनके सही सलामत वापस आने की दुआ कर रहे हैं.

मिलनसार स्वभाव

लापता मलेशियाई विमान

वे अंतरराष्ट्रीय स्तर के ग़ैरसरकारी संगठन 'आईसीएसएफ़' के लिए 10 सालों से काम कर रही हैं.

उनके सहयोगी बताते हैं कि वे काफ़ी मिलनसार स्वभाव की हैं.

चंद्रिका के साथ काम करने वाले एन वेणुगोपाल का कहना है, "नरेंद्रन और परिवार के दूसरे सदस्य सदमे में हैं. वे फिलहाल किसी से बात करने की मनःस्थिति में नहीं."

विमान में चालक दल के 12 सदस्यों समेत कुल 239 लोग सवार थे. इनमें से चंद्रिका सहित चार और भारतीय यात्री शामिल हैं.

अभी तक इस विमान के बारे में कोई ख़बर नहीं मिली है. व्यापक तलाशी अभियान अभी भी जारी है.

चार दिन पहले उड़ान भरने के कुछ घंटों बाद ही विमान से एयरक्रॉफ्ट कंट्रोल टावर का संपर्क टूट गया था.

मछुआरों पर शोधपत्र

लापता मलेशियाई विमान

वेणुगोपाल बताते हैं, "आईसीएसएफ़ की कार्यकारी सचिव चंद्रिका शर्मा की अगुआई में संगठन सफलता के नए शिखर छू रहा है. उन्हें मंगोलिया में 'फ़ूड ऐंड एग्रीकल्चर आर्गनाइज़ेशन' (एफ़एओ) की ओर से आयोजित सम्मेलन में हिस्सा लेना था."

आईसीएसएफ़ के सलाहकार सेबास्टियन मैथ्यू ने बताया, "चंद्रिका मंगोलिया में सम्मेलन में शोधपत्र प्रस्तुत करने वाली थीं. यह शोधपत्र मछुआरों की आजीविका और अच्छे मत्स्य पालन से जुड़े दिशा-निर्देशों के बारे में था."

मैथ्यू का कहना है कि इस यात्रा के पीछे उनका मक़सद छोटे मछुआरों की समस्याओं पर एफ़एओ का ध्यान खींचना था. वे चंद्रिका को एक समर्पित कर्मचारी और एक बेमिसाल माँ मानते हैं.

चंद्रिका की 18 साल की बेटी मेघना दिल्ली के एक कॉलेज में अंग्रेज़ी साहित्य पढ़ रही हैं.

(पत्रकार लक्ष्मण कूची के साथ हुई बातचीत पर आधारित)

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे क्लिक करें फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और क्लिक करें ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.