यूपी: क्या बीजेपी सच में 'भारतीय झगड़ा पार्टी' बन रही है?

  • 11 मार्च 2014

उत्तर प्रदेश में सीटों को लेकर भारतीय जनता पार्टी में जो वैमनस्य नज़र आ रहा है वो कोई नई बात नहीं है.

प्रदेश के चार बड़े नेता कल्याण सिंह, राजनाथ सिंह, कलराज मिश्रा और लालजी टंडन, कभी एक होकर नहीं चल पाए. ये चारों ही एक दूसरे की टांग खींचने में व्यस्त रहे.

सोमवार को लखनऊ से भारतीय जनता पार्टी के सांसद लालजी टंडन ने टीवी चैनलों के माध्यम से कहा कि पार्टी अध्यक्ष राजनाथ सिंह से उनके पारिवारिक सम्बन्ध हैं और वह वही करेंगे जो पार्टी कहेगी.

किन्तु उससे एक घंटे पहले यह पूछने पर कि क्या वह लखनऊ से लोकसभा चुनाव लड़ेंगे तो उनका जवाब था, "मैं लखनऊ से सांसद हूँ. चुनाव सिर पर हैं और मैंने चुनाव की पूरी तैयारी कर ली है. बूथ स्तर तक संगठन तैयार है."

लखनऊ से राजनाथ सिंह के चुनाव लड़ने की ख़बर पर प्रतिक्रिया दे रहे टंडन ने कुछ नाराज़गी से कहा, "इस तरह का कोई प्रस्ताव ना पार्टी की तरफ से आया है और ना ही राजनाथ जी ने कोई बात की है. मैं गुजरात गया था और मोदी जी को लखनऊ से चुनाव लड़ने का न्यौता देकर आया था."

मानेंगे टंडन?

लाल जी टंडन लखनऊ की सीट नहीं छोड़ने पर अड़े.

लालजी टंडन लखनऊ के चौक इलाके के पुराने निवासी हैं. चौक में होली के दिन एक होली जुलूस निकाला जाता है. उसकी चर्चा करते हुए टंडन कहते हैं कि इस बार एक बड़ा जुलूस निकालने की तैयारी है. ज़ाहिर है टंडन होली के अवसर पर अपना शक्ति प्रदर्शन करेंगे.

लालजी टंडन के अलावा मुरली मनोहर जोशी भी नाराज़ हैं कि उनको बनारस की सीट नरेंद्र मोदी के लिए छोड़ कर कानपुर से चुनाव लड़ना होगा. वहाँ से चुनाव लड़ने का मन लखनऊ पूर्व सीट से विधायक कलराज मिश्रा ने बना रखा है.

मुश्किल यह है कि न जोशी बनारस छोड़ना चाहते हैं और न कलराज मिश्रा कानपुर. कानपुर जोशी को दिए जाने पर मिश्रा को श्रावस्ती से मैदान में उतारने की भी चर्चा है.

कलराज मिश्रा कहते हैं, "कानपुर के लोग भी चाहते हैं कि हम वहाँ से (चुनाव) लड़ें."

श्रावस्ती से लड़ने के लिए मिश्रा बिलकुल तैयार नहीं हैं क्योंकि श्रावस्ती मुसलमान और कुर्मी बाहुल्य क्षेत्र है. उनके लिए दूसरा प्रस्ताव अकबरपुर का है जो कानपुर देहात ज़िले का हिस्सा है. लेकिन मिश्रा कानपुर छोड़ें उससे पहले ज़रूरी है कि जोशी बनारस छोड़ें.

क्या होगा कलराज का?

लखनऊ से चुनाव लड़ने के विवाद पर 1996 की याद आती है जब मिश्रा प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष थे और उनको हटाने के लिए एक मुहिम चल रही थी. उसमें पार्टी के कुछ प्रमुख नेताओं का हाथ होने की बात उस समय कही गई थी.

याद दिलाने पर मिश्रा बिना किसी का नाम लिए बिना बोले, "अरे अब आप तो जानते हैं कि इसके पीछे कौन है और 1996 और 2000 में कौन था. बिलकुल वही बातें दोहराई जा रही हैं."

कलराज मिश्रा कहाँ जाएंगे, यह सवाल बना हुआ है.

लखनऊ सीट के लिए लालजी टंडन अपने को पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का उत्तराधिकारी मानते हैं. यह और बात है कि टंडन के यहाँ से सांसद होने के बाद लखनऊ की वो महत्ता नहीं रही जो वाजपेयी के समय थी. फिर भी यह माना जाता है कि लखनऊ से जीतने वाला सांसद प्रधानमंत्री के पद के नज़दीक पहुँच जाता है.

हो सकता है कि अंदरूनी कलह को कम करने के लिए राजनाथ वापस ग़ाज़ियाबाद से चुनाव लड़ें और टंडन लखनऊ से. यह भी मान लें कि मोदी बनारस से और जोशी कानपुर से चुनाव लड़ेंगे लेकिन समस्या फिर भी बनी रहेगी. कारण कलराज मिश्रा कहाँ जाएंगे?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)