BBC navigation

ओडिशा की राजनीति में सितारों का जमघट

 रविवार, 9 मार्च, 2014 को 13:46 IST तक के समाचार
कांग्रेस में शामिल होतीं अभिनेत्री मोहंती

ओडिशा के चुनावी मैदान में इस बार फ़िल्मी सितारों का जमघट देखने को मिलेगा. पिछले कुछ दिनों में फ़िल्म और टीवी की दुनिया के आठ सितारों ने राज्य की तीन प्रमुख पार्टियों का दामन थामा है.

इनमें से अधिकांश को टिकट मिलना लगभग तय है. अगले कुछ दिनों में कुछ और कलाकार राजनीति में आ सकते हैं.

ओलिवुड (ओडिया फ़िल्म उद्योग) के सितारों का चुनावी राजनीति में आने का सिलसिला साल 2009 में ही शुरू हो गया था.

उन दिनों के क्लिक करें सुपरस्टार सिद्धांत महापात्र लोकसभा चुनाव से ठीक पहले सत्तारूढ़ बीजू जनता दल (बीजद) में शामिल हो गए थे.

पार्टी ने उन्हें बेरहामपुर लोकसभा सीट से उम्मीदवार बनाया था, जहां उन्होंने तत्कालीन केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस उम्मीदवार चंद्रशेखर साहू को हराया था.

संसद जाने वाले पहले अभिनेता

इस तरह सिद्धांत राज्य के पहले ऐसे फ़िल्मी कलाकार बने, जो चुनाव जीतकर संसद पहुंचे.

शायद यह सिद्धांत की सफलता ही थी, जिसने इस बार बड़ी संख्या में सितारों को चुनावी समर में उतरने के लिए प्रेरित किया.

"मैं अटल बिहारी वाजपेयी का भी प्रशंसक रहा हूं. वाजपेयी जी ने विकास की जो धारा शुरू की थी, उसे मोदी जी ही आगे बढ़ा सकते हैं"

श्रीतम दास, भाजपा में शामिल अभिनेता

इस बार यह सिलसिला शुरू किया अभिनेता अनुभव मोहंती ने. वो पिछले साल नगर निगम चुनाव के दौरान बीजद में शामिल हुए.

बाद में सिनेमा और टीवी के लोकप्रिय हास्य कलाकार पप्पू पमपम ने भी सत्तारूढ़ पार्टी की सदस्यता ली थी.

ओडिया फिल्मों की नंबर एक हीरोइन रही अपराजिता मोहंती 20 फ़रवरी को कांग्रेस में शामिल हुईं. इसके हफ्ते भर बाद 27 फ़रवरी को बीते दिनों के चोटी के अभिनेता विजय मोहंती भी क्लिक करें कांग्रेस में शामिल हो गए. कांग्रेस ने अपराजिता को कटक और विजय मोहंती को भुवनेश्वर लोकसभा क्षेत्र से उम्मीदवार बनाया है.

बीजद और कांग्रेस के बाद अब स्टार पावर दिखाने की बारी थी क्लिक करें भाजपा की. अभिनेता श्रीतम दास और पिंकी प्रधान 26 फ़रवरी को भाजपा में शामिल हुए, तो तीन मार्च को अभिनेता पिंटू नंदा.

स्टार पावर का दम

कांग्रेस-भाजपा में फ़िल्मी कलाकारों को जाते देख शायद बीजद को लगा कि केवल अनुभव और पप्पू पमपम से उसे स्टार पावर नहीं मिलेगा.

इसलिए बीजद ने शुक्रवार को अभिनेता मिहिर दास और सात्यकि मिश्र और एक समय चोटी की गायिका रहीं तृप्ति दास को शामिल कर लिया.

आख़िर राजनीति में आना क्यों चाहते हैं फ़िल्मी कलाकार?

कांग्रेस में शामिल हुए अभिनेता विजय मोहंती

इस सवाल पर भाजपा में शामिल होने वाली श्रीतम दास ने अपने सामाजिक कार्यों की सूची गिनाते हुए फ़िल्म इंडस्ट्री के विकास की इच्छा जताई. इसमें हर इलाक़े में सिनेमा हॉल बनवाना भी उनका प्रमुख मुद्दा है.

भाजपा में शामिल होने के सवाल पर दास का कहना था कि प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी ने उन्हें बहुत प्रभावित किया हैं. वो उनके प्रशंसक हैं.

उन्होंने कहा, ''मैं अटल बिहारी वाजपेयी का भी प्रशंसक रहा हूं. वाजपेयी जी ने विकास की जो धारा शुरू की थी, उसे मोदी जी ही आगे बढ़ा सकते हैं."

इस समय कटक लोकसभा सीट को लेकर लोगों में सबसे अधिक उत्सुकता है. जहां से कांग्रेस के अपराजिता मोहंती के ख़िलाफ़ बीजद अनुभव मोहंती को चुनाव मैदान में उतार सकता है.

संबंधों की जंग

अपराजिता से जब पूछा गया कि क्या उन्हें किसी फ़िल्मी कलाकार से टक्कर लेना अटपटा नहीं लग रहा, इस पर उन्होंने कहा," अनुभव मुझे भी बहुत ही प्यारा है. मैं न तो उसे और न किसी दूसरे को अपना शत्रु मानती हूं. चुनावी जीत-हार का निजी या पेशेवर संबंधों पर कोई असर पड़ेगा, मैं ऐसा नहीं मानती."

अधिक काम न होने की वजह से राजनीति में आने के सवाल पर अपराजिता ने कहा, "आप देख सकते हैं कि इस समय मैं एक फ़िल्म की शूटिंग के दौरान आप से बात कर रही हूं. आप इंडस्ट्री से पता कर सकते हैं कि मेरे पास कितना काम है."

इतना अधिक काम होने के बाद राजनीति के लिए समय निकालने के सवाल पर अपराजिता ने कहा, "औरत ऐसा कर सकती है क्योंकि उसे एक साथ दो, तीन या चार काम संभालने का तज़ुर्बा होता है."

"काम और राजनीति में औरतें संतुलन बना सकती है क्योंकि उन्हें एक साथ दो, तीन या चार काम संभालने का तज़ुर्बा होता है"

अपराजिता मोहंती, कांग्रेस में शामिल अभिनेत्री

सितारे जो चाहे कहें. लेकिन इसमें कोई संदेह नहीं कि चुनाव लड़ने का आकर्षण ही उन्हें राजनीति की ओर खींचता है.

इस सवाल पर तृप्ति दास कहती हैं, "सभी चुनाव लड़ना चाहते हैं. मैं इस बात से इनकार नहीं करूंगी कि मेरे मन में भी ऐसी इच्छा है. लेकिन मेरा चुनाव लड़ना या न लड़ना पार्टी पर निर्भर करता है."

बेरहमपुर लोकसभा क्षेत्र से बीजद के टिकट के प्रवल दावेदार सिद्धांत महापात्र से जब यह पूछा गया कि पार्टी ने अगर उन्हें बेरहमपुर से दोबारा टिकट नहीं दिया तो क्या वो दुखी नहीं होंगे? तो उनका कहना था, "बिल्कुल नहीं. मैं पार्टी के लिए पहले की तरह काम करता रहूंगा."

सिद्धांत ही ऐसे फ़िल्म स्टार हैं जो चुनाव लड़कर संसद में पहुंचे. इसलिए उनसे अगला सवाल था कि क्या एक कलाकार के लिए फ़िल्म करिअर और राजनीति के साथ न्याय कर पाना संभव है?

इस पर उन्होंने कहा, "राजनीति में आने के बाद मैं अपने फ़िल्म करिअर के साथ शायद न्याय नहीं कर पाया. यह स्वाभाविक भी है क्योंकि राजनीति आप को उतना समय नहीं देती."

राजनीतिक निष्ठा

कांग्रेस में शामिल हुईं अभिनेत्री अपराजिता मोहंती.

फिल्मी करिअर छोड़ने के सवाल पर सिद्धांत ने कहा, "राजनीति को मैं पेशे की तरह नहीं देखता. न किसी और को देखना चाहिए. अगर राजनीति में होते हुए लोग वकील या व्यापारी बने रह सकते हैं तो फ़िल्म स्टार क्यों नहीं? "

उन्होंने कहा, ''मुझे इस बात की ख़ुशी है कि फ़िल्म बिरादरी के लोग राजनीति में आ रहे हैं. लेकिन उनसे मैं कहना चाहूंगा कि वे राजनीति में आएं तो पूरी गंभीरता और निष्ठा के साथ."

उन्होंने कहा कि उन्हें इस बात से कोई परेशानी नहीं होती कि फ़िल्मी दुनिया में उनके सहयोगी रहे कलाकार चुनाव के मैदान में उनके या उनकी पार्टी के ख़िलाफ़ खड़े होंगे. उन्होंने कहा कि फ़िल्म की दुनिया में हम सब भाई-भाई हैं.

लेकिन राजनीति में सितारों का जमघट लगने से प्रमुख पार्टियों में टिकट के अन्य दावेदार काफी निराश हैं. बीजद के नेताओं में यह बौखलाहट कुछ अधिक है.

विधानसभा चुनाव में बीजद टिकट के दावेदार रहे एक स्थानीय नेता ने नाम सार्वजनिक न करने की शर्त पर कहा, "ज़ाहिर है उन्हें पार्टी में लाते समय टिकट का आश्वासन दिया गया होगा. मैंने दस साल पार्टी के लिए काम किया और जब चुनाव का समय आया तो कोई और बाज़ी मार ले जाए. इसे मेरे क्षेत्र के लोग और पार्टी कार्यकर्ता कभी भी बर्दाश्त नहीं करेंगे."

बीजद के इस नेता की बात शायद पार्टी प्रमुख क्लिक करें नवीन पटनायक के लिए ख़तरे की घंटी हो.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए क्लिक करें यहां क्लिक करें. आप हमें क्लिक करें फ़ेसबुक और क्लिक करें ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.