बाघों को जंगल में रहने और शिकार करने की ट्रेनिंग

  • 10 फरवरी 2014
साइबेरियन बाघ

शेरों को भी भला कोई शिकार करना सिखाता है.

हो सकता है कि ये बात आपने कई बार सुनी हो लेकिन कुछ साइबेरियाई बाघों को शिकार करने और जंगल में रहने की ट्रेनिंग दी जा रही है. ये वो बाघ हैं जिन्हें बाघों का प्रजनन यानी ब्रीडिंग कराने वाले चीनी लोग जंगल में छोड़ने जा रहे हैं.

चीनी मीडिया की ख़बरों के अनुसार दो या तीन साल के बाघ शावकों को ये ट्रेनिंग दी जा रही है जिसे अधिकारियों ने जंगल में रहने की ट्रेनिंग का नाम दिया है.

चीनी समाचार एजेंसी शिन्हुआ के अनुसार ये ट्रेनिंग चीन के पूर्वोत्तर इलाके में हाईलोंगचियांग साइबेरियन टाइगर गार्डन में चल रही है.

इसका मकसद जंगलों में रहने वाले ऐसे जीवों की संख्या बढ़ाना है जो लुप्त होने के कगार पर हैं.

ठोस कदम

जीव वैज्ञानिकों का कहना है कि सर्दी की बर्फ़ में ट्रेनिंग इन जानवरों के लिए 'ठोस कदम' होगा, जिन्हें पर्वतों में रहना है और अपनी संख्या को बढ़ाना है.

साइबेरियन बाघ सबसे अधिक लुप्तप्राय जीवों में शामिल हैं. अनुमान है कि जंगलों में अब सिर्फ 300 साइबेरियन बाघ बचे हैं जिनमें से 20 पूर्वोत्तर चीन में हैं.

हाईलोंगचियांग के केंद्र में 1996 से अब तक एक हज़ार से ज़्यादा शावकों का जन्म हो चुका है.

चीन के सरकारी टीवी के अनुसार चीन के चिड़ियाघरों में लगभग छह हज़ार साइबेरियन बाघों को रखा जा रहा है. विशाल पांडा के साथ साथ साइबेरियन बाघ ‘प्रथम श्रेणी वाला संरक्षित जीव’ है.

(बीबीसी मॉनिटरिंग दुनिया भर के टीवी, रेडियो, वेब और प्रिंट माध्यमों में प्रकाशित होने वाली ख़बरों पर रिपोर्टिंग और विश्लेषण करता है. आप बीबीसी मॉनिटरिंग की खबरें ट्विटर और फ़ेसबुक पर भी पढ़ सकते हैं. बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें. आप हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)