BBC navigation

असम: हमले में 10 लोगों की मौत

 बुधवार, 29 जनवरी, 2014 को 23:45 IST तक के समाचार
असम हिंसा की फ़ाइल फ़ोटो

हमले की यह घटना असम-अरुणाचल प्रदेश सीमा की बताई जाती है

भारत के पूर्वोत्तर राज्य असम के सोनितपुर ज़िले में बुधवार को अज्ञात लोगों ने दस लोगों की हत्या कर दी है. हमले में आठ अन्य लोग घायल भी हुए हैं.

असम के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने अपना नाम ज़ाहिर नहीं करने की शर्त पर बीबीसी को बताया कि हमले में मारे गए दस लोग असम के थे और हमलावर अरुणाचल प्रदेश के रहने वाले थे.

उन्होंने बताया कि इस हमले में 12 बोर की बंदूकों का इस्तेमाल किया गया जो आमतौर पर जानवरों का शिकार करने के काम आती हैं.

उधर, इस घटना पर भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (माले) की राज्य समिति के सदस्य बलिन सैकिया ने बीबीसी को बताया कि मारे गए लोग उनकी पार्टी के थे.

बलिन सैकिया का दावा है कि उनकी पार्टी के लोग सीमा पर अरुणाचल प्रदेश के लोगों को अतिक्रमण करने से रोकने का प्रयास कर रहे थे और उसी दौरान यह घटना घटी.

उनका कहना है कि हमले की यह घटना दोपहर साढ़े तीन बजे के आसपास की है. बलिन सैकिया का यह भी दावा है कि हमले में पचास लोग घायल हुए हैं और कुछ लोग लापता भी हैं.

जंगली इलाका

"अरुणाचल प्रदेश के लोगों ने दस साल से यहां तीस हज़ार बीघा ज़मीन पर क़ब्ज़ा जमा रखा है. लेकिन यहां का वन विभाग और असम प्रशासन ने इस पर ध्यान नहीं दिया."

बलिन सैकिया, भाकपा-माले

बलिन सैकिया ने बीबीसी को बताया कि हमलावरों की संख्या सौ के आसपास थी जो अपने मुंह पर काला कपड़ा बांधे हुए थे. बलिन सैकिया ने इस घटना को बिहाली वन क्षेत्र में सक्रिय लकड़ी-माफ़िया से भी जोड़ा है.

उनका यह भी दावा है कि अरुणाचल प्रदेश के लोगों ने सीमा से लगने वाले असम के इलाके में ज़मीन के एक बड़े हिस्से पर अपना क़ब्ज़ा जमा रखा है और भाकपा (माले) कार्यकर्ता इसी क़ब्ज़े के ख़िलाफ़ बीते ढाई महीने से मुहिम चला रहे थे.

उन्होंने बीबीसी को बताया, ''अरुणाचल प्रदेश के लोगों ने दस साल से यहां तीस हज़ार बीघा ज़मीन पर क़ब्ज़ा जमा रखा है.लेकिन यहां का वन विभाग और असम प्रशासन ने इस पर ध्यान नहीं दिया.''

बलिन सैकिया का यह भी कहना है कि राजगढ़ आली नामक जगह पर अतिक्रमण के ख़िलाफ़ जुटे पार्टी कार्यकर्ताओं पर ऐसे किसी हमले की आशंका के बारे में उन्होंने प्रशासन को भी आग़ाह किया था.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए क्लिक करें यहां क्लिक करें. आप हमें क्लिक करें फ़ेसबुक और क्लिक करें ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.