महिला मज़दूरों से भरी नाव डूबी, तीन शव बरामद

  • 29 जनवरी 2014

बिहार के बक्सर ज़िले में मंगलवार की शाम महिला मज़दूरों से भरी एक नाव गंगा नदी में डूब गई. इसमें नाविक, एक पुरुष और 20 महिलाओं व लड़कियों समेत कुल 22 लोग सवार थे.

बक्सर के एसपी बाबू कुमार के अनुसार, इनमें से 13 लोगों को ग्रामीणों के सहयोग से सुरक्षित बचा लिया गया है.

बुधवार सुबह तक तीन शवों को नदी से निकाला जा चुका है.

जबकि लापता लोगों की तलाश के लिए स्थानीय गोताखोरों को लगाया गया है.

राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन की टीम छह लापता महिलाओं और लड़कियों की तलाश में जुटी हुई है.

खेतिहर मज़दूर

बचाई गईं महिलाओं का इलाज बक्सर के जिला सदर अस्पताल में चल रहा है.

स्थानीय पत्रकार अजय कुमार सिंह के अनुसार, नाव में सवार सभी महिलाएं चैसा प्रखंड के न्यायीपुर गांव की रहने वाली थीं.

इस गांव से प्रतिदिन महादलित टोले की महिलाएं उत्तर प्रदेश के पलिया गांव में टमाटर के खेतों में मजदूरी करने जाती हैं.

हर दिन की तरह मंगलवार को भी ये सभी महिलाएं मज़दूरी कर के लौट रही थीं.

अजय कुमार सिंह ने यह भी बताया कि महिलाएं जिस नाव पर सवार थीं, उस पर टमाटर और आलू भी लदा था.

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार, बक्सर में जब नाव चैसा बाजार घाट से कुछ दूर ही थी कि नाव में पानी भरना शुरू हो गया और देखते-देखते वह गंगा में डूब गई.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)