BBC navigation

देहरादून एक्सप्रेस में आग, नौ की मौत

 बुधवार, 8 जनवरी, 2014 को 13:03 IST तक के समाचार
ट्रेन में आग

मुंबई से देहरादून जा रही देहरादून एक्सप्रेस में बुधवार तड़के आग लगने से नौ यात्रियों की मौत हो गई.

रेलवे के प्रवक्ता शरद चंद्रायन ने बीबीसी को बताया कि मुंबई और सूरत के बीच घोलवड स्टेशन के पास बुधवार को तड़के क़रीब ढाई बजे यह हादसा हुआ.

उन्होंने बताया कि देहरादून जा रही इस ट्रेन के तीन डिब्बों में आग लग गई जिसमें चार पुरुषों और एक महिला की धुंए के कारण दम घुटने से मौत हो गई.

अन्य चार लोगों के शव बचाव कार्य के दौरान बुरी तरह जली हुई अवस्था में मिले.

इनमें से पाँच मृतकों की शिनाख्त दीपिका शाह, देव शंकर उपाध्याय, सुरेन्द्र शाह, नासिरख़ान अहमदख़ान पठान और फिरोज़ ख़ान के रूप में हुई है.

रेलवे प्रवक्ता के अनुसार बचाव कार्य पूरा हो चुका है.

क़ाबू

प्रवक्ता ने कहा कि बांद्रा टर्मिनस और देहरादून के बीच चलने वाली इस ट्रेन में लगी आग पर दो घंटे में क़ाबू पा लिया गया था.

उन्होंने कहा कि आग ट्रेन के एस-3 और एस-4 के बीच से शुरू हुई लेकिन इसके कारणों का अभी पता नहीं चल पाया है.

रेलवे ने एक बयान में बताया कि यह हादसा मुंबई-सूरत सेक्शन पर दहानू रोड और घोलवड स्टेशनों के बीच हुआ.

घोलवड स्टेशन पर एक गेटमैन ने स्टेशन मास्टर को ट्रेन में आग लगे होने की सूचना दी जिसके तुरंत बाद ट्रेन को रोक दिया गया.

जाँच के आदेश

वलसाड और मुंबई से मेडिकल टीमों को घटनास्थल पर भेजा गया. साथ ही मुंबई सेंट्रल डिवीजन के डीआरएम और अन्य अधिकारी भी घटनास्थल पर पहुँचे.

दमकल विभाग की गाड़ियों और तीन एंबुलेंसों को भी घटनास्थल पर भेजा गया. आग से प्रभावित डिब्बों को ट्रेन से अलग किया गया. बाक़ी छह डिब्बों को साढ़े पाँच बजे रवाना कर दिया गया.

वलसाड में इस ट्रेन में पाँच और डिब्बे जोड़कर इसे आगे भेज दिया गया. इस खंड पर रेल यातायात को सुबह क़रीब पौने सात बजे बहाल कर दिया गया.

इस बीच रेल मंत्री मल्लिकार्जुन खड़गे ने हादसे में यात्रियों की मौत पर दुख व्यक्त जताते हुए मृतकों के परिजनों को पांच-पांच लाख रुपए का मुआवज़ा देने की घोषणा की.

साथ ही उन्होंने इस हादसे की जाँच के भी आदेश दिए हैं.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड ऐप आप क्लिक करें यहाँ से डाउनलोड कर सकते हैं. साथ ही आप हमसे जुड़ सकते हैं क्लिक करें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी.)

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.