दिल्ली में सरकार गठन: आप अपने रुख़ पर अडिग

  • 13 दिसंबर 2013
आम आदमी पार्टी

दिल्ली विधानसभा में 28 सीटें जीतकर दूसरी सबसे बड़ी पार्टी आम आदमी पार्टीने कहा है कि सरकार गठन को लेकर उनकी स्थिति में कोई बदलाव नहीं आया है.

दिल्ली में पार्टी की बैठक के बाद वरिष्ठ नेता योगेंद्र यादव ने कहा कि उनकी पार्टी अपनी स्थिति पहले ही स्पष्ट कर चुकी है.

लेकिन उन्होंने ये भी स्पष्ट किया कि पार्टी विधायक दल के नेता अरविंद केजरीवाल शनिवार को उप राज्यपाल नजीब जंग से मिलने जाएँगे.

पत्रकारों से बातचीत में योगेंद्र यादव ने कहा, "हमारे पास न तो बहुमत है और न ही हम सबसे बड़ी पार्टी हैं. लेकिन उप राज्यपाल के निमंत्रण पर अरविंद केजरीवाल उनसे मिलने जाएँगे और एक लिखित प्रतिवेदन देंगे."

दिल्ली विधानसभा की कुल 70 सीटों में से 32 सीटें भारतीय जनता पार्टी और उसकी सहयोगी अकाली दल को मिली है.

दूसरे नंबर पर है आम आदमी पार्टी जिसे 28 सीटें मिली है. कांग्रेस को सिर्फ़ आठ सीटें मिली हैं.

भाजपा का भी इनकार

योगेंद्र यादव

गुरुवार को भाजपा के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार डॉक्टर हर्षवर्धन भी उप राज्यपाल के न्यौते पर उनसे मिले थे.

लेकिन उन्होंने भी स्पष्ट किया था कि चूँकि भाजपा को बहुमत नहीं है, इसलिए वो सरकार नहीं बना सकती. उन्होंने कहा था कि वो विपक्ष में बैठने को तैयार है.

अरविंद केजरीवाल भी पहले कई बार कह चुके हैं कि वो न तो कांग्रेस या भाजपा से समर्थन लेंगे और न ही उन्हें समर्थन देंगे.

योगेंद्र यादव ने ये भी कहा कि उनकी पार्टी लेन-देन और जोड़-तोड़ की राजनीति में विश्वास नहीं करती.

उन्होंने कहा, "हमें इस बात की ख़ुशी है कि हमारे कारण कई पार्टियाँ जो जोड़-तोड़ करने से बाज नहीं आती थी, वो दिल्ली में ऐसा करने से बाज आए हैं. ये हमारे लिए संतोष का विषय है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार