कांग्रेस ने किया छल: अन्ना हज़ारे

  • 10 दिसंबर 2013
अन्ना हज़ारे

जनलोकपाल बिल को संसद में फ़ौरन पारित करने की मांग के साथ सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हज़ारे ने महाराष्ट्र के रालेगण सिद्धि में मंगलवार से अनिश्चितकालीन अनशन शुरू कर दिया है.

अन्ना हज़ारे ने संवाददाताओं से कहा, "अनशन शुरू करने से पहले मैंने मंदिर में प्रार्थना की और भगवान से कहा कि सरकार को लोकपाल बिल पारित करने के लिए सद्बुद्धि दे."

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़, अन्ना हज़ारे ने कहा, ''राष्ट्र निर्माण की दिशा में जन-लोकपाल बिल बड़ा कदम होगा.''

कांग्रेस पर 'छल' करने का आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा कि अब समय आ गया है जब संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन सरकार अपना वादा पूरा करे या सत्ता से बाहर हो जाए.

अगस्त 2011 में जनलोकपाल के मुद्दे पर दिल्ली में अनशन से सुर्खियों में आए अन्ना हज़ारे ने इस बार अनशन के लिए रालेगण सिद्धि स्थित यादव बाबा के मंदिर को चुना है.

'हकीक़त समझे कांग्रेस'

अन्ना हज़ारे ने कहा कि हाल के विधानसभा चुनावों के बाद कांग्रेस को समझना चाहिए कि हकीक़त क्या है और ये सुनिश्चित करना चाहिए कि लोकपाल बिल संसद के मौजूदा शीतकालीन सत्र में पारित हो जाए.

अन्ना हज़ारे

उन्होंने कहा, ''प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह यदि साम्प्रदायिक हिंसा निवारण विधेयक के पारित होने का रास्ता साफ कर सकते हैं तो भ्रष्टाचार निरोधक इस विधेयक के साथ ऐसा क्यों नहीं किया जा सकता जिसमें पहले ही बहुत देरी हो चुकी है.''

दिल्ली में अपने अनशन को याद करते हुए हज़ारे ने कहा, ''सोनिया गांधी ने ये कहते हुए पत्र लिखा था कि सरकार जन लोकपाल बिल लाने के लिए तैयार है और उन्होंने ही मुझसे अनशन ख़त्म करने के लिए कहा था. मैंने उन पर भरोसा करके अनशन ख़त्म कर दिया था. मुझे नहीं पता था कि यूपीए सरकार जनता के साथ और मेरे साथ छल करेगी.''

रालेगण सिद्धि

आम आदमी पार्टी के अरविंद केजरीवाल के इस अनशन में शामिल होने के बारे में पूछे जाने पर अन्ना हज़ारे ने कहा, ''केजरीवाल समेत हर किसी का स्वागत है. शर्त बस ये है कि उनके साथ किसी राजनीतिक पार्टी का बैनर नहीं होना चाहिए.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार