छह महीने बाद खाता खुला तो महिला बैंक में

  • 20 नवंबर 2013
भारतीय महिला बैंक, लखनऊ

भारत के कई शहरों में मंगलवार को भारतीय महिला बैंक की शाखाएँ खुलीं. इनमें उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ भी शामिल है.

बैंक में पहला खाता खुला आशा मिश्रा का, जो खाता खोले जाने से बेहद ख़ुश नज़र आईं.

पहले दिन बैंक की लखनऊ शाखा में खाता खुलवाने वाली कुछ महिलाओं का कहना था कि वे पिछले छह महीने से दूसरे बैंक में खाता खुलवाना चाहती थीं लेकिन खाता नहीं खुला.

उद्घाटन के दिन ही बैंक की इस शाखा में पाँच महिलाओं के खाते खोले गए और पाँच महिलाओं को लोन दिया गया.

सरकार की योजना है कि इस बैंक के कामकाज में महिलाओं को प्राथमिकता दी जाएगी और ज़्यादा से ज़्यादा खाते महिलाओं के खोले जाएँगे.

भारतीय महिला बैंक की लखनऊ शाखा के निमंत्रण पर बैंक पहुँची महिलाओं ने बैंक के खुलने पर खुशी जताई.

बैंक की पहली महिला ग्राहक थीं आशा मिश्रा. आशा का कहना था, "हमें अपना अधिकार मिला है. हमें इस पर गर्व है और इस बैंक में आकर अपना काम करने में हमें काफ़ी सुविधा होगी."

बड़ा सहारा

Bharatiya Mahila Bank, Lucknow, भारतीय महिला बैंक, लखनऊ

एक स्वयं सहायता समूह से जुड़ी मोहसीना बेगम, रेणु और रत्ती देवी का कहना था कि उनके लिए यह बैंक बहुत बड़ा सहारा है.

चारों महिलाओं ने बताया कि वो पिछले छह महीने से खाता खुलवाने की कोशिश कर रहीं थीं.

बैंक अधिकारियों का कहना था कि उनके पास उचित प्रमाणपत्र नहीं हैं. इसलिए उनका खाता नहीं खुल पाया.

अपना खाता

भारतीय महिला बैंक की चेयरपर्सन और मैनेजिंग डायरेक्टर उषा अनंतसुब्रमण्यन ने कहा, "यह सार्वजनिक क्षेत्र का बैंक होगा और पूरे देश में इसकी शाखाएं खुलेंगी. पहले दिन गुवाहाटी, कोलकाता, चेन्नई, मुंबई, अहमदाबाद, बैंगलोर और लखनऊ में इसकी शाखाएं खोली जा रही हैं."

उन्होंने कहा कि महिला बैंक की पश्चिम भारत, उत्तर भारत और दक्षिण भारत सहित सभी जगह शाखाएं शुरू की जाएंगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)