BBC navigation

विदाई के दिन सचिन तेंदुलकर को भारत रत्न

 शनिवार, 16 नवंबर, 2013 को 18:50 IST तक के समाचार
सचिन तेंदुलकर

भारत सरकार ने शनिवार को क्रिकेट खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर को देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से सम्मानित करने की घोषणा की है. भारत रत्न पानेवाले सचिन पहले खिलाड़ी होंगे.

सचिन ने शनिवार को ही अपना 200वां टेस्ट मैच खेलकर क्रिकेट की दुनिया को अलविदा कहा है.

मुंबई के क्लिक करें वानखेड़े स्टेडियम में उन्होंने अपने विदाई भाषण से लोगों की क्लिक करें आँखें नम कर दी थी. लेकिन सरकार ने शाम होते-होते उनके प्रसंशकों को खुश होने का मौक़ा दे दिया.

बीबीसीआई अध्यक्ष एन श्रीनिवासन ने सचिन को भारत रत्न दिए जाने पर कहा, "सचिन तेंदुलकर एक प्रेरक व्यक्तित्व हैं और सभी खिलाड़ियों के लिए एक रोल मॉडल हैं. वो भारत रत्न के सही हक़दार हैं. मैं उन्हें हार्दिक बधाई देता हूं."

वैज्ञानिक को भी सम्मान

भारत सरकार के पत्र सूचना कार्यालय (पीआईबी) की ओर से जारी बयान के मुताबिक़ यह सम्मान प्रतिष्ठित रसायनशास्त्री सीएनआर राव को भी दिया जाएगा.

मशहूर रसायन विज्ञानी सीएनआर राव के विभिन्न विज्ञान पत्रिकाओं में 14 सौ से अधिक लेख और 45 से अधिक किताबें प्रकाशित हो चुकी हैं. उन्हें कई राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय पुरस्कारों से भी सम्मानित किया जा चुका है.

वहीं सचिन तेंदुलकर ने क़रीब ढाई दशक के अपने क्रिकेट करियर के दोनों प्रारूपों- एक दिवसीय और टेस्ट क्रिकेट में उल्लेखनीय प्रदर्शन किया है.

सचिन ने अपने करियर में कुल 200 टेस्ट मैच खेले. उन्होंने टेस्ट मैचों की 239 पारियों में 53.78 की औसत से कुल 15921 रन बनाए हैं.

रिकॉर्डों के बादशाह

टेस्ट क्रिकेट में उनका उच्चतम स्कोर 248 रन का था, जो उन्होंने बांग्लादेश के खिलाफ ढाका में बनाए थे. टेस्ट क्रिकेट में उन्होंन 51 शतक और 68 अर्धशतक जमाए हैं.

इसी तरह एक दिवसीय क्रिकेट में उन्होंने कुल 463 मैच खेले हैं. वनडे की 452 पारियों में उन्होंने 44.83 की औसत से 18426 रन बनाए हैं. इसमें 49 शतक और 96 अर्धशतक शामिल हैं.

सचिन तेंदुलकर को देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न देने की माँग पिछले काफी समय से की जा रही थी. इसकी मांग करने वालों में देश के हर तबके और क्षेत्र के लोग शामिल थे.

सरकार ने कुछ समय पहले नियमों में बदलाव किया था. इसके बाद खिलाड़ियों को भी देश का सर्वोच्च सम्मान देने का रास्ता आसान हो गया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए क्लिक करें यहां क्लिक करें. आप हमें क्लिक करें फ़ेसबुक और क्लिक करें ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.