BBC navigation

लालू की ज़मानत याचिका ख़ारिज

 गुरुवार, 31 अक्तूबर, 2013 को 12:11 IST तक के समाचार
लालू प्रसाद यादव

चारा घोटाले मामले में जेल में बंद बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव की ज़मानत याचिका को झारखंड उच्च न्यायालय ने ख़ारिज कर दिया.

राष्ट्रीय जनता दल के अध्यक्ष लालू की याचिका पर सुनवाई बुधवार को पूरी हो गई थी लेकिन न्यायालय ने फ़ैसला सुरक्षित रखा था.

उच्च न्यायालय ने इससे पहले शुक्रवार को इस मामले में जेल भेजे गए बिहार के एक और पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्र को प्रोवीज़नल (औपबंधिक) ज़मानत दे दी थी.

इससे पहले उच्च न्यायालय ने लालू की ज़मानत याचिका पर बहस के लिए सीबीआई को और वक़्त दे दिया था. ज़मानत याचिका पर सुनवाई 30 अक्तूबर तक के लिए टाल दी गई थी.

सीबीआई की विशेष अदालत ने चारा घोटाले से जुड़े चाईबासा ट्रेज़री से 37.7 करोड़ रुपए निकालने के मामले में 30 सितंबर को लालू प्रसाद यादव, जगन्नाथ मिश्र और आरके राना समेत 43 अभियुक्तों को दोषी क़रार दिया था.

मामला

क्लिक करें लालू प्रसाद यादव को पाँच साल की क्लिक करें सज़ा हुई है. लालू ने इसके ख़िलाफ़ उच्च न्यायालय में अपील दायर की है. लालू को लोकसभा की सदस्यता से भी अयोग्य क़रार दे दिया गया था.

चाइबासा कोषागार से कथित फ़र्ज़ी बिल देकर 37.7 करोड़ रुपए निकालने का ये मामला जब सामने आया, तो तत्कालीन मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव ने ध्रुव भगत और जगदीश शर्मा की सदस्यता वाली विधानसभा समिति से इसकी जांच कराने के आदेश दिए थे.

इस मामले में शिवानंद तिवारी, सरयू रॉय, राजीव रंजन सिंह और रविशंकर प्रसाद ने पटना हाईकोर्ट में एक जनहित याचिका दायर की थी. पटना हाईकोर्ट ने 11 मार्च 1996 को 950 करोड़ रुपए के कथित चारा घोटाले के मामलों की जांच सीबीआई को सौंपने का आदेश दिया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.