अब तक नहीं मिला सोना, जारी रहेगा अभियान

  • 29 अक्तूबर 2013
डौंडिया खेड़ा

उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले के डौंडिया खेड़ा गाँव में भारतीय पुरात्तव सर्वेक्षण (एएसआई) की खुदाई में अब तक सोना नहीं मिला है.

सोमवार तक 16 फीट तक की खुदाई कर ली गई थी और अब तक की खुदाई में सोना होने के कोई संकेत नहीं मिले थे.

मंगलवार को भी खुदाई में सोना न मिलने के बाद एएसआई के खुदाई रोकने की ख़बरें आईं थी. हालाँकि सोने की खोज का अभियान अभी बंद नहीं हुआ है.

उन्नाव के जिलाधिकारी विजयकिरण आनंद ने बीबीसी को बताया कि मंगलवार को भी शाम पाँच बजे तक खुदाई चली है. बुधवार को खुदाई के अभियान में लगे मज़दूरों का अवकाश रहेगा और इसके बाद खुदाई फिर से शुरू हो जाएगी.

यहाँ एक हज़ार टन के स्वर्ण भंडार की तलाश में खुदाई की जा रही है.

एएसआई के निदेशक ज़माल अहमद ने एक टीवी चैनल से कहा, 'जहाँ तक सोने का सवाल है, हमें सोने या चाँदी की कोई भी चीज़ खुदाई के स्थान से नहीं मिल रही है, हम प्राकृतिक मिट्टी की परत तक पहुँच गए हैं.'

आमतौर पर एएसआई प्राकृतिक मिट्टी की परत तक पहुँचने के बाद खुदाई नहीं करती है. खुदाई का काम भी परत दर परत ही किया जाता है. जब यह लगता है कि इस परत तक इंसान नहीं पहुँचा है तब खुदाई रोक दी जाती है.

ज़माल अहमद ने बीबीसी को बताया कि फोटोग्रॉफी के लिए खुदाई रोकी गई थी, अभियान अभी ख़त्म नहीं हुआ है.

खुदाई में क्या-क्या मिला

डौंडिया खेड़ा
सोने के साथ संत के सपने की बात जुड़ने के बाद यहां मीडिया का भारी जमावड़ा था.

गंगा किनारे जिस खंडहरनुमा किले में खुदाई का काम चल रहा था वह 1857 तक वहाँ के राजा राम बख्श सिंह का था. 1857 के ग़दर में राम बख्श सिंह अंग्रेज़ों के खिलाफ लड़े और हार गए.

उन्हें उसी साल फांसी दे दी गई. दस दिन से ज़्यादा चली खुदाई में एएसआई को लोहे की कीलें, दो मिट्टी की चूल्हे और चूड़ियों के सिवा अब तक कुछ ख़ास हाथ नहीं लगा है.

संत का सपना

एक तरफ गंगा और तीन तरफ से बबूल की झाड़ियों से घिरा खंडहरनुमा किला कानपुर में रहने वाले एक साधू, शोभन सरकार की वजह से चर्चा का विषय बना हुआ है.

कुछ माह पूर्व शोभन सरकार ने अपने भक्तों को बताया कि राम बख्श सिंह उनके सपने में आए और बताया कि किले में 1000 टन सोना दबा है.

उनके भक्तों में केंद्रीय मंत्री चरण दस महंत भी हैं. मंत्री ने शोभन सरकार की बात कांग्रेस पार्टी की अध्यक्ष सोनिया गाँधी और भारत के प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह तक पहुंचाई जिसके बाद एएसआई को खुदाई के काम का निर्देश मिला और खुदाई शुरू हो गई.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार