आखिर यह पायलिन है क्या बला?

  • 12 अक्तूबर 2013
सेटेलाइट से ली गई समुद्री तूफान पायलिन की तस्वीर

चक्रवर्ती तूफान पायलिन के शनिवार की शाम को देश के दो राज्यों ओडीशा और आंध्रप्रदेश के तटों पर पहुंचने की आशंका बताई जा रही है.

तूफान पायलिन की वजह से भारतीय रक्षा विभाग ने तीनों सेनाओं को हाई अलर्ट कर दिया है. आखिर क्या है कि समुद्री तूफान पायलिन?

( भारतीय मौसम विभाग की ताज़ा चेतावनी को पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)

  1. पायलिन का मतलब है नीलम. यह नाम थाईलैंड की ओर से दिया गया है.
  2. पायलिन को एक बेहद भयंकर चक्रवर्ती तूफान के रूप में देखा जा रहा है. जिसकी वजह से भारत के पूर्वी तटीय इलाकों को खतरा पैदा हो गया है.
  3. पायलिन की शुरूआत इस वर्ष अक्टूबर के शुरू में अंडमान सागर के ऊपर कम दवाब वाले इलाके से हुई.
  4. भारतीय मौसम विभाग के अनुसार पूर्वी मध्य बंगाल की खाड़ी से उठा है और अब यह ओडीशा के पाराद्वीप के दक्षिण-पूर्व से 800 किमी से उत्तर-पश्चिम दिशा और विशाखापत्तनम के 870 किमी से पूर्व-दक्षिण-पूर्व की ओर बढ़ रहा है.
  5. मौसम विभाग के अनुसार 12 अक्टूबर की शाम तक पायलिन 175-185 किमी प्रति घंटे की गति से ओडीशा के गोपालपुर के नजदीक पहुंच जाएगा.
  6. पायलिन की वजह से ओडीशा के तटीय इलाकों में शनिवार की सुबह से ही बहुत भारी वर्षा होने की संभावना है.
  7. इसके बाद समुद्री तूफान पायलिन के ओडीशा के अंदरूनी इलाकों और पश्चिम बंगाल के तटीय इलाकों में रविवार की सुबह तक जारी रहने की आशंका है.
  8. विभाग के अनुसार पायलिन से पांच लाख लोगों के प्रभावित होने की आशंका है. इसे देखते हुए तटीय इलाकों गंजम, पुरी, खोरधा, जगतसिंहापुर से लोगों को हटा दिया गया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमारे फेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)