BBC navigation

दलितों को चाहिए 'एस्केप वेलॉसिटी': राहुल

 मंगलवार, 8 अक्तूबर, 2013 को 18:06 IST तक के समाचार
राहुल गांधी, दलित, कांग्रेस

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी दलितों को दिए एक बयान के चलते एक बार फिर सोशल मीडिया में चर्चा का विषय बन गए हैं.

राजधानी दिल्ली में दलितों के सशक्तिकरण पर एक के बाद एक दो कार्यक्रमों में शामिल हुए राहुल गांधी का कहना था कि देश के दलित समुदाय को आगे ले जाने के लिए उन्हें ‘बृहस्पति ग्रह की एस्केप वेलॉसिटी’ चाहिए.

विज्ञान भवन में मौजूद लोगों को एस्केप वेलॉसिटी के बारे में समझाते हुए राहुल ने कहा कि यह वह रफ़्तार है जिसे हासिल करने के बाद ही कोई चीज़ किसी ग्रह या चांद के गुरुत्वाकर्षण से आज़ाद हो सकती है.

लेकिन इस बयान के बाद 'एस्केप वेलॉसिटी' ट्विटर में भारत में सबसे ऊपर ट्रेंड कर रहा है.

दक्षिणपंथी विचारधारा रखने वाले कई लोगों ने जहाँ राहुल का इस बयान के बाद मज़ाक उड़ाया है तो वहीं ट्विटर पर कांग्रेस का बचाव करने वालों ने कहा है कि उनके बयान को सही संदर्भ में समझने की ज़रूरत है.

'रीढ़ की हड्डी'

विज्ञान भवन में अनुसूचित जातियों के सशक्तीकरण पर राष्ट्रीय जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया था.

राहुल का कहना था, ''बीआर अंबेडकर पहले दलित थे जिन्होंने एस्केप वेलॉसिटी हासिल की और उनके बाद कांशीराम ने इस ताक़त को सही दिशा में मोड़ा, मगर ‘यह ऊर्जा उन्हें आरक्षण की बदौलत मिली थी’ और उन्होंने बहुत से दलितों को एस्केप वेलॉसिटी हासिल करने में मदद की.''

राहुल का कहना था कि बहुजन समाज पार्टी नेता और उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने दलित नेतृत्व पर क़ब्ज़ा जमा लिया और दूसरों को उठने का मौका नहीं दे रही हैं.

उनका कहना था कि अगर एस्केप वेलॉसिटी के आंदोलन को आगे बढ़ाया जाता तो इसमें लाखों दलितों की भागीदारी हो सकती थी.

राहुल गांधी, दलित, कांग्रेस

राहुल ने बताया कि उन्होंने कांग्रेस में मौजूद प्रमुख दलित नेताओं को कहा है कि वे ‘पंचायत, विधायक, सांसद और नीतिगत स्तर’ पर उनका नेतृत्व तैयार करें.

तालकटोरा स्टेडियम में दलित अधिकार दिवस पर एक कार्यक्रम में राहुल ने दलितों को कांग्रेस की ‘रीढ़ की हड्डी’ करार दिया.

राहुल का कहना था, "चाहे उन्हें कांग्रेस में जितना प्रतिनिधित्व मिले, वह भी कम है. ये लोग कांग्रेस पार्टी की रीढ़ की हड्डी हैं और हमें उनके लिए और बहुत करना है."

इस दौरान जमकर नारेबाज़ी भी हुई. राहुल ने आश्वासन दिया कि कांग्रेस दलितों के लिए जो मुमकिन होगा, करेगी.

स्टेडियम में मौजूद वाल्मीकि समुदाय के युवाओं को लक्ष्य कर उन्होंने कहा, "ये चेहरे विधानसभाओं और लोकसभाओं में दिखने चाहिए. "

"कांग्रेस ग़रीबों की पार्टी है. हमारा विपक्ष ग़रीबों की समस्याएं नहीं समझता. वे उनके घर नहीं जाते और न ही उनकी समस्याएं समझने के लिए कभी उनसे मिलते हैं. इसके बाद वे इंडिया शाइनिंग की बात करते हैं और फिर चुनाव हारते हैं. वे 2004 में हारे थे, फिर 2009 में हारे और फिर 2014 में हारेंगे."

इस कार्यक्रम का आयोजन भगवान वाल्मीकि फ़ाउंडेशन ने किया था. राहुल ने यूपीए के शिक्षा का अधिकार, खाद्य सुरक्षा और ग्रामीण रोज़गार गारंटी योजना और आरटीआई जैसे विधेयकों का ज़िक्र भी किया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए क्लिक करें यहां क्लिक करें. आप हमें क्लिक करें फ़ेसबुक और क्लिक करें ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.