BBC navigation

दिल्ली गैंगरेप: दोषियों के लिए फांसी की मांग

 मंगलवार, 10 सितंबर, 2013 को 14:34 IST तक के समाचार
दिल्ली गैंगरेप

दिल्ली सामूहिक बलात्कार मामले में अदालत ने दोषी पाए गए चारों अभियुक्तों को फांसी दिए जाने की मांग हो रही है.

केंद्रीय गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे ने कहा कि इस मामले में पुलिस ने समय पर जांच पूरी की है.

उन्होंने कहा कि इस संबंध में जो नया क़ानून बनाया गया है, उसमें ऐसे दोषियों के लिए फांसी का प्रावधान है.

लोकसभा में विपक्ष की नेता सुषमा स्वराज ने कहा कि अदालत ने चारों अभियुक्तों को दोषी ठहराया है और उन्हें फांसी ही मिलनी चाहिए.

सुषमा ने कहा, ‎"बलात्कार के बाद हत्या जघन्य अपराध है. इन सबको फांसी होनी चाहिए. क्लिक करें यह मामला एक नज़ीर बनना चाहिए ताकि बलात्कारों की जो बाढ़ आ गई है उसे रोका जा सके."

समाज को संदेश

क्लिक करें कांग्रेस की नेता अंबिका सोनी ने कहा कि सज़ा ऐसी होनी चाहिए, जिससे समाज में एक स्पष्ट संदेश जाए और कोई आगे ऐसी हरकत न करे.

सुषमा स्वराज

सुषमा स्वराज ने कहा कि सभी दोषियों को फांसी होनी चाहिए.

उन्होंने कहा, "मुझे बताया गया कि इन अभियुक्तों में से एक ऐसा था जिसे दूसरी बार बलात्कार के मामले में पकड़ा गया है. भविष्य में ऐसा न हो इसके लिए ज़रूरी है कि बलात्कारियों को कड़ी सजा मिले."

क्लिक करें भाजपा प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन ने ट्विटर पर लिखा, "निर्भया मामले में आए फ़ैसले का मैं स्वागत करता हूँ. उम्मीद करता हूँ कि माननीय अदालत जो फ़ैसला सुनाएगी, वह फ़ैसला जन भावनाओं के अनुरूप होगा."

दिल्ली के सांसद संदीप दीक्षित ने कहा कि इन अभियुक्तों ने जो गुनाह किया है उसके लिए कोई भी सज़ा कम है.

उन्होंने उम्मीद जताई कि अदालत दोषियों को अधिकतम सजा देगी.

जाने माने वकील उज्जवल निकम ने कहा कि यह मामला क्लिक करें जघन्यतम अपराध की श्रेणी में आता है और इसमें अभियोजन पक्ष को मौत की सज़ा की मांग करना चाहिए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.