BBC navigation

कोलकाता: सरकारी अस्पताल में तीस से ज्यादा बच्चों की मौत

 रविवार, 8 सितंबर, 2013 को 05:14 IST तक के समाचार
kolkata hospital

इसी अस्पताल में बच्चों की मौत पर वर्ष 2011 में भी बवाल हुआ था.(फ़ाइल फोटो)

कोलकाता के एक सरकारी अस्पताल पर आरोप है कि लापरवाही के कारण वहां पिछले चार दिनों में तीस से ज्यादा बच्चों की मौत हो गई है.

बच्चों के माता-पिता का कहना है कि बीसी रॉय पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टिट्यूट ऑफ पीडिएट्रिक साइंसिज़ अस्पताल के कर्मचारियों ने बच्चों को सही दवाएं नहीं दीं और अस्पताल का प्रबंधन भी ठीक नहीं था.

लेकिन अस्पताल के प्रशासन का कहना है कि बच्चों को गंभीर हालात में अस्पताल में भर्ती कराया गया था और मामला डॉक्टरों के हाथ से बाहर चला गया था.

मुफ्त इलाज मुहैया कराने वाले इस अस्पताल को 2011 में दो दिन में 18 बच्चों की लापरवाही के कारण मौत के आरोप से मुक्त कर दिया गया था.

समाचार एजेंसी पीटीआई ने अस्पताल सूत्रों के हवाले से ख़बर दी है कि 35 बच्चों की मौत हुई और इन सभी को मरणासन्न हालत में अस्पताल लाया गया था.

अस्पताल ने डॉक्टरों और नर्सिंग स्टाफ़ द्वारा किसी भी कोताही से इनकार किया है.

'क्लीन चिट'

सूत्रों के मुताबिक राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने तीन सदस्यीय जांच समिति बनाई थी जिसने अस्पताल पर किसी भी तरह की लापरवाही के आरोप को खारिज किया था और अस्पताल को 'क्लीन चिट' दी थी.

अस्पताल के स्टाफ़ की मदद के लिए आठ बाल विशेषज्ञ भेजे गए थे.

क्लिक करें जल्दी जन्म, अधिक बीमारी

बच्चों के स्वास्थ्य का निरीक्षण करने वाली कार्य समिति के प्रमुख त्रिदिब बैनर्जी ने कहा, "स्वास्थ्य विभाग मुख्य मंत्री ममता बनर्जी के निर्देशानुसार बच्चों की देखरेख के लिए हरसंभव प्रयास कर रहा है."

इसी अस्पताल में बच्चों की मौत पर वर्ष 2011 में भी बवाल हुआ था जब एक जुलाई को 48 घंटे के भीतर 18 बच्चों की मौत का मामला सामने आया था.

(बीबीसी हिन्दी के क्लिक करें एंड्रॉएड ऐप के लिए आप क्लिक करें यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें क्लिक करें फ़ेसबुक औरक्लिक करें ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.