BBC navigation

मेरी प्रिय कविता: बद्री नारायण

 बुधवार, 4 सितंबर, 2013 को 10:25 IST तक के समाचार

कबीरदास मध्यकालीन भक्ति काव्यधारा के सबसे प्रमुख कवि थे जिन्होंने सामाजिक और धार्मिक बुराइयों पर अपनी कविताओं से करारा प्रहार किया.

हिन्दी में किसी एक कविता का चयन एक कालजयी, सर्वप्रासंगिक एवं सर्वग्राही कविता के रूप में करना बहुत कठिन है.

हिन्दी कविता मेरे अनुसार अमीर ख़ुसरो, कबीर, तुलसी, रविदास, शिवनारायण, निराला, नागार्जुन, मुक्तिबोध जैसे कवियों की महान परंपरा से गुज़रते हुए आज के समकालीन कवियों यथा केदारनाथ सिंह, राजेश जोशी, अरुण कमल, अनामिका, नवल शुक्ल जैसे कवियों तक पहुंचती है.

हालांकि किसी एक कविता की प्रासंगिकता एवं उसकी कालजयी प्रवृत्ति का चयन प्राय: वर्तमान के संदर्भ में ही संभव हो पाता है. समय से परे होकर किसी प्रासंगिकता का चयन संभव नहीं है.

मेरे अनुसार वर्तमान सन्दर्भ में मध्यकालीन कवि कबीर प्रासंगिक भी हैं और कालजयी तो हैं ही. आज का समय बाज़ारवाद, धनसंचय, लोभ-लालच, भ्रष्टाचार की आक्रामक प्रवृत्तियों से ग्रसित है.

भूमण्डलीकरण एवं बाज़ारवाद से उभरी इस प्रवृत्ति को आगामी समय में बढ़ते ही जाना है. ऐसे में कबीर के दोहे एवं कविताएं जो धन संचयन, लोभ लालच पर आक्रमण करती हैं, मुझे बहुत प्रासंगिक प्रतीत होती हैं.

कबीर की एक कविता है – रहना नहीं देस बिराना है. यह कविता मेरे अनुसार अतीत में भी और आज भी कालजयी गुणों से युक्त है, सर्वग्राही है व प्रासंगिक तो है ही. कबीर कहते हैं कि लोभ-लालच, लिप्सा, कामना से युक्त यह संसार क्षणभंगुर एवं निस्सार है -

रहना नहीं देस बिराना है

यह संसार कागद की पुड़िया, बूँद पड़े गल जाना है।

यह संसार काँट की बारी, उलझ पुलझ मरि जाना है।।

यह संसार झाड़ और झाखर, आग लगे बरि जाना है।

कहें कबीर सुनो भाई साधो, सद्गुरु नाम ठिकाना है।।

यह देश अपना देश नहीं है. यह काग़ज़ की पुड़िया की तरह है, पीनी की एक बूँद पड़ी नहीं कि गल जाएगा अर्थात् बहुत नश्वर है. यह संसार काँटों का बगीचा है, इसमें जो उलझा, वह उसी में फँसकर मर जाएगा.

लोभ-लालच, भ्रष्टाचार से धन कमाने एवं उपभोग की बढ़ती हुई प्रवृत्ति की कबीर निर्मम आलोचना करते हैं और इस आलोचना से संतोष व आत्मिक सुख पर टिका हुआ संसार बनाना चाहते हैं. इसीलिए वो कहते हैं –

चाह मिटी, चिन्ता मिटी मनवा बेपरवाह।

जिसको कुछ नहीं चाहिए, वह है शहंशाह।।

(प्रस्तुति : अमरेश द्विवेदी)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहांक्लिक करें क्लिक करें. आप हमेंक्लिक करें फ़ेसबुक और क्लिक करें ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)


इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.