मुंबई रेप: एक गिरफ़्तार, लड़की की हालत स्थिर

  • 23 अगस्त 2013

मुंबई के परेल इलाके में गुरुवार रात एक फोटो पत्रकार के साथ कथित सामूहिक बलात्कार मामले में पुलिस ने एक व्यक्ति को गिरफ़्तार किया है. पुलिस ने बाकी के चार संदिग्धों को पहचानने का दावा किया है.

इस बीच जसलोक अस्पताल की डॉक्टर तरंग ज्ञानचंदानी ने कहा है कि पीड़ित की हालत स्थिर है. पीड़ित लड़की मुंबई के जसलोक अस्पताल में भर्ती है.

उन्होंने कहा, "लकड़ी को कभी भी आईसीयू में नहीं रखा गया था. उन्हें आंतरिक और बाहरी चोटें हैं. हम प्रार्थना कर रहे हैं कि उनकी स्थिति जल्द ही सुधर जाए"

बलात्कार की ये घटना केंद्रीय मुंबई के परेल इलाके में शक्ति मिल के नज़दीक शाम छह बजे के आसपास घटी और इसमें पाँच लोग शामिल थे जिन्होंने लड़की के मित्र को बांध दिया और उसका बलात्कार किया.

पत्रकारों से बातचीत करते हुए मुंबई पुलिस आयुक्त सत्यपाल सिंह ने जानकारी दी कि जब ये महिला तस्वीर ले रही थी तो संदिग्धों ने उनसे पूछा कि वो इमारत में कैसे घुस गईं क्योंकि इमारत रेलवे संपत्ति का हिस्सा थी.

सत्यापाल सिंह ने बताया कि उसके बाद एक लड़के ने लड़की के दोस्त को बांधने के बाद महिला के साथ कथित बलात्कार किया. पुलिस ने शुक्रवार सुबह पाँच संदिग्धों का स्केच जारी किया था.

पुलिस आयुक्त के मुताबिक पीड़ितों के बयान के आधार पर इन स्केचों को बनाया गया था जिसके मदद से अभियुक्तों की पहचान हो सकी.

रिपोर्ट

महाराष्ट्र के गृह सचिव विनीत अग्रवाल ने बीबीसी से कहा कि गृह मंत्रालय ने मुंबई पुलिस से घटना के बारे में एक रिपोर्ट मांगी और दोपहर तक उन्हें ये रिपोर्ट मिलने की उम्मीद है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक इस महिला की उम्र 22 साल है और ये एक अंग्रेजी पत्रिका में इंटर्न के तौर पर काम कर रही थीं. एक स्थानीय पत्रकार जतिन देसाई ने बीबीसी को बताया कि इस घटना पर पत्रकारों और दूसरे संगठनों ने गुरुवार को मुंबई में प्रदर्शन किए थे और शुक्रवार को भी और प्रदर्शन आयोजित किए जाएंगे.

पुलिस के अनुसार ये महिला मुंबई की चॉल पर कहानी बनाने के लिए गई हुई थी जब ये वारदात हुई. हाल के दिनों में लगातार बलात्कार के मामले सामने आते रहे हैं.

राजधानी दिल्ली में पिछले साल 16 दिसंबर को पैरा मेडिकल की छात्रा के साथ चलती बस में सामूहिक बलात्कार की घटना घटी थी.

दिल्ली की घटना

16 दिसंबर बलात्कार मामले में अभी सुनवाई चल रही है

इस घटना ने पूरे देश को झकझोर दिया था. लोगों ने सड़कों पर विरोध प्रदर्शन के ज़रिए गुस्से का इजहार किया और पीडि़ता के लिए न्याय की गुहार लगाई.

दिल्ली पुलिस के मुताबिक अभियुक्तों ने लड़की और उनके पुरुष मित्र के साथ मारपीट भी की थी.

लड़की को इलाज के लिए सिंगापुर भी ले जाया गया लेकिन वहां उनकी मौत हो गई थी.

इस मामले में कुल छह लोगों को अभियुक्त बनाया गया था. इनमें से एक को कुछ महीने पहले जेल में मृत पाया गया था.

जेल अधिकारियों का कहना था कि उन्होंने ख़ुदकुशी की है जबकि परिवार वालों का आरोप था कि ये हत्या का मामला है. इस मामले की सुनवाई फास्ट ट्रैक कोर्ट में चल रही है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

संबंधित समाचार