BBC navigation

भारत में मुसलमानों का 'जीवनस्तर सबसे नीचे'

 बुधवार, 21 अगस्त, 2013 को 06:55 IST तक के समाचार
भारत मुसलमान

भारत में अक्सर मुसलमानों की सामाजिक और आर्थिक हालत को लेकर बहस होती है. मुसलमानों की आर्थिक हालत को जानने के लिए बनी सच्चर कमेटी ने भी मुसलमानों के पिछड़ेपन का ज़िक्र किया था.

अब केंद्र सरकार के एक सर्वे में पता चला है कि भारत में मुसलमानों का जीवनस्तर सबसे नीचे है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक नेशनल सैंपल सर्वे ऑर्गेनाइज़ेशन यानी एनएसएसओ के एक अध्ययन 'भारत के बड़े धार्मिक समूहों में रोज़गार और बेरोज़गारी की स्थिति' में पता चला है कि मुसलमानों का जीवनस्तर सबसे नीचे है.

एनएसएसओ के सर्वे के मुताबिक मुसलमानों का औसत प्रति व्यक्ति प्रति दिन खर्च सिर्फ़ 32.66 रुपए है.

सिखों की हालत बेहतर

वहीं सिख समुदाय की हालत तुलनात्मक रूप से बेहतर है. सिख समुदाय में औसत प्रति व्यक्ति प्रति दिन खर्च 55.30 रुपए है.

हिंदुओं में औसत प्रति व्यक्ति प्रति दिन खर्च 37.50 रुपए और ईसाई समुदाय में औसत 51.43 रुपए प्रतिदिन है.

एनएसएसओ के इस सर्वे के मुताबिक मुसलमान ग्रामीण और शहरी दोनों ही क्षेत्रों में सबसे नीचे हैं.

मुसलमानों का ग्रामीण क्षेत्रों में प्रति परिवार औसत मासिक खर्च 833 रुपए है जबकि हिंदुओं के लिए ये आंकड़ा 888, ईसाइयों के लिए 1296 और सिखों के लिए 1498 है.

वहीं शहरी इलाकों में भी मुसलमानों का प्रति परिवार औसत मासिक खर्च सबसे कम 1272 रुपए था जबकि हिंदुओं का 1797, ईसाइयों का 2053 और सिखों का 2180 रुपए था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए क्लिक करें यहां क्लिक करें. आप हमें क्लिक करें फ़ेसबुक और क्लिक करें ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.