भारतीयों के लिए गूगल की 12 करोड़ की प्रतियोगिता

  • 13 अगस्त 2013
गूगल
कंपनी का कहना है कि ‘गूगल इम्पैक्ट चैलेंज इन इंडिया’ उसके सामाजिक प्रयासों का हिस्सा है.

इंटरनेट सर्च इंजन कंपनी गूगल ने तकनीक के ज़रिए समाज की विभिन्न समस्याओं से निपटने से जुड़ी एक प्रतियोगिता का आयोजन किया है. इसे प्रतियोगिता में जीतने वाले चार उद्यमियों को उनके अनोखे विचारों के लिए तीन-तीन करोड़ रुपए का पुरस्कार दिया जाएगा.

गूगल ने इसके लिए संस्थाओं से आवेदन मांगे हैं जिसमें उन्हें बताना होगा कि वे भारत और विश्व की समस्याओं से निपटने के लिए तकनीक का इस्तेमाल कैसे करेंगे.

चार विजेताओं में से हर एक को अपनी परियोजना को मूर्त रूप देने के लिए तीन करोड़ रुपए और गूगल की तरफ से तकनीकी सहायता मिलेगी.

कंपनी का कहना है कि ‘गूगल इम्पैक्ट चैलेंज इन इंडिया’ उसके सामाजिक प्रयासों का हिस्सा है.

प्रक्रिया

गूगल ने मंगलवार को एक बयान में कहा, “ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया शुरू हो गई है और ये पांच सितंबर तक जारी रहेगी. फ़ाइनल में पहुंचने वाली दस संस्थाओं की सूची 21 अक्तूबर को घोषित की जाएगी. इसके बाद लोगों को इन परियोजनाओं में से अपनी पसंदीदा योजना चुनने को कहा जाएगा.”

फ़ाइनल 31 अक्टूबर को दिल्ली में होगा. महत्वपूर्ण है कि गूगल ने 2012 में ग्लोबल इम्पैक्ट अवार्ड शुरू किया था.

इसमें तकनीक के ज़रिए दुनिया को बदलने वाली परियोजनाओं को बढ़ावा किया जाता है.

गूगल के सीनियर वाइस प्रेसिडेंट और मुख्य व्यावसायिक अधिकारी निकेश अरोड़ा ने गूगल के आधिकारिक ब्लॉग में लिखा, “भारत के स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर हम दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र में सृजनात्मकता और उद्यमशीलता को सलाम कर रहे हैं.”

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड के लिए यहाँ क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)