BBC navigation

'मौनमोहन' नहीं हैं मनमोहन: पीएमओ

 सोमवार, 22 जुलाई, 2013 को 20:48 IST तक के समाचार
मनमोहन

मनमोहन की छवि बदलने की कोशिश

भारत के प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पर उनके राजनीतिक विरोधी बार-बार आरोप लगाते हैं कि वो बड़े मुद्दों पर चुप्पी साधे रहते हैं. प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की इस नकारात्मक छवि को लेकर प्रधानमंत्री का कार्यालय खुश नहीं है.

पीएमओ ने मनमोहन की इस छवि को तोड़ने की कोशिश की है और अब प्रधानमंत्री के सभी भाषणों को प्रधानमंत्री की आधिकारिक वेबसाइट पर डाल दिया गया है.

प्रधानमंत्री कार्यालय ने इस बारे में क्लिक करें एक ट्वीट भी किया है. जिसमें कहा गया है कि प्रधानमंत्री ने 2004 में कार्यभार संभालने के बाद से 1300 भाषण दिए हैं. प्रधानमंत्री कार्यालय के मुताबिक प्रधानमंत्री ने सिर्फ इस जुलाई में ही तीन भाषण दिए हैं जिनमें उनका 19 जुलाई का भाषण भी है. 19 जुलाई को उद्योगपतियों के संगठन एसोचैम की बैठक में मनमोहन ने कहा था कि सरकार अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाएगी.

भाषणों का ब्यौरा वेबसाइट पर डालने से साफ है कि मनमोहन ख़ामोश रहें या नहीं उनका कार्यालय नहीं चाहता कि मीडिया उनकी खामोशी को लेकर जनता के सामने उनकी गलत छवि पेश करे.

चुप्पी से पहुंचा नुकसान

"प्रधानमंत्री ने 2004 में कार्यभार संभालने के बाद से 1300 भाषण दिए हैं"

प्रधानमंत्री कार्यालय

असल में मनमोहन की इस चुप्पी की वजह से देशी-विदेशी मीडिया ने उनकी आलोचना भी की है. उनकी इस चुप्पी को लेकर उन पर कई चुटकुले बने हैं और इसी चुप्पी की वजह से वो कार्टूनिस्टों के भी पसंदीदा हैं. हालांकि ख़ुद प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह खामोश रहना पसंद करते हैं. मनमोहन की इस बात के लिए तारीफ़ भी होती है कि वो तीखे हमलों को भी खामोशी से झेल जाते हैं.

कोयला घोटाले को लेकर भी जब प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की ईमानदारी पर विपक्ष ने सवाल उठाए थे तब उन्होंने उर्दू के एक शेर के साथ जवाब दिया था. मनमोहन ने संसद के बाहर पत्रकारों से कहा था

"हज़ारों जवाबों से अच्छी है ख़ामोशी मेरी,
न जाने कितने सवालों की आबरू रख ली."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए क्लिक करें क्लिक करें यहां क्लिक करें. आप हमें क्लिक करें क्लिक करें फ़ेसबुक और क्लिक करें क्लिक करें ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.