'स्कूल प्रिंसिपल की लापरवाही से हुई बच्चों की मौत'

  • 20 जुलाई 2013

बिहार के छपरा ज़िले में ज़हरीला भोजन खाने से 23 बच्चों की मौत स्कूल की प्रिंसिपल मीना देवी की कथित लापरवाही की वजह से हुई.

सूत्रों के मुताबिक़ ये बात हादसे की जांच के लिए गठित टीम ने अपनी रिपोर्ट में कही है. टीम ने शुक्रवार शाम अपनी रिपोर्ट शिक्षा विभाग को सौंप दी.

इस महीने की 16 तारीख़ को छपरा ज़िले के मशरख़ ब्लॉक में मिड डे मील में मिले जहरीला भोजन खाने से 23 स्कूली बच्चों की मौत हो गई थी और 25 बच्चों का इलाज पटना मेडिकल कॉलेज में चल रहा है.

खाने में ज़हर

घटना की जांच की ज़िम्मेदारी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सारण प्रमंडल के आयुक्त और पुलिस उपमहानिरीक्षक की एक सुंयुक्त टीम को सौंपी थी.

जांच रिपोर्ट में ये भी कहा गया है कि खाना पकाने में इस्तेमाल किया गया तेल ज़हरीला था और मध्याह्न भोजन योजना के क्रियान्वयन में भारी अव्यवस्था पाई गई है.

गुरुवार को बिहार के शिक्षा विभाग के मुख्य सचिव अमरजीत सिन्हा ने भी माना था कि मौतें खाने में ज़हर के चलते हुई हैं.

शुक्रवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में अमरजीत सिन्हा ने बताया कि घटना की फॉरेंसिक रिपोर्ट शनिवार तक आने की उम्मीद है. साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि रिपोर्ट मिलने के बाद ही अन्य दंडात्मक कार्यवाई तय की जा सकेगी.

लेकिन उन्होंने केंद्र से मध्याह्न भोजन त्रासदी के बारे में किसी भी चेतावनी के मिलने से साफ इंकार किया.

उन्होंने बताया, "केंद्र सरकार जिस अलर्ट लेटर की बात कह रही है कि बिहार सरकार को चेताया गया था लेकिन उसने ध्यान नहीं दिया, वह असल में मिड डे मील योजना का विस्तार करने के लिए पूरे देश में जारी किया गया सामान्य पत्र था."

फिलहाल स्कूल की प्रिंसिपल फ़रार हैं. लेकिन उनके और कुछ अन्य लोगों के ख़िलाफ़ एफ़आईआर दर्ज कर ली गई है.

हालांकि हैरत की बात ये भी है कि उस गांव में ख़ुद प्रिंसिपल के कुछ रिश्तेदार हैं जिनके बच्चे भी इस घटना में या तो मरे हैं या बीमार हैं. स्कूल में खाना पकाने वाली महिला के भी दो बच्चे इस हादसे में मारे गए हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)