BBC navigation

मशहूर फ़िल्म अदाकार प्राण का निधन

 शनिवार, 13 जुलाई, 2013 को 09:30 IST तक के समाचार
प्राण, अमिताभ बच्चन

हिंदी फ़िल्मों के मशहूर विलेन और चरित्र अभिनेता प्राण की शुक्रवार देर शाम मुंबई के लीलावती अस्पताल में मौत हो गई. वो 93 साल के थे.

उनके बेटे सुनील ने बीबीसीसंवाददाता मधू पाल को बताया कि वो लीलावती अस्पताल में भर्ती थे जहां उनकी मौत देर शाम हुई.

उन्हें इस साल दादा साहब फ़ालके अवार्ड से सम्मानित किया गया था. लेकिन वो इस क़दर बीमार थे कि इसे ख़ुद स्वीकार करने दिल्ली नहीं आ पाए थे.

बाद में सूचना और प्रसारण मंत्री मनीष तिवारी ने उनके घर जाकर उन्हें अवार्ड दिया.

पीटीआई के मुताबिक़ प्राण का अंतिम संस्कार शनिवार को मुंबई के शिवाजी पार्क में दोपहर बाद किया जाएगा.

सात दशकों का करियर

प्राण ने 'मिलन,' मधूमति, बॉबी, ज़ंजीर, और राम और श्याम' जैसी फ़िल्मों में लगभग सात दशकों तक काम किया.

कहा जाता है कि उन्होंने खलनायक के किरदार को अपनी फ़िल्मों में हीरो के बराबर ला खड़ा किया था. उनके किरदार की छाप कुछ इतनी गहरी थी कि एक समय में कहा जाता है लोगों ने अपने बच्चों के नाम प्राण रखना बंद कर दिया था.

कश्मीर की कली, ख़ानदान, औरत, बड़ी बहन, हाफ़ टिकट और पूरब और पश्चिम उनकी कुछ दूसरी यादगार फ़िल्मे हैं.

पुरानी दिल्ली में पैदा हुए अदाकार ने शुरूआती ज़िंदगी उत्तर प्रदेश और पंजाब के कई जगहों में बिताई. उनके पिता सरकारी नौकरी में थे.

विभाजन के बाद वो मुंबई आ गए लेकिन उन्हें काम मिलना मुश्किल हो रहा था लेकिन तब उनकी मुलाक़ात मशहूर लेखक सआदत हसन मंटो से हुई.

उन्हें देवानंद की ज़िद्दी में साल 1948 में काम मिला जिसके बाद उन्होंने एक से बढ़कर एक कामयाबियां हासिल कीं.

'सज्जन और अनुशासित कलाकार'

प्राण को याद करते हुए अमिताभ बच्चन ने ट्वीट किया, "प्राण साहब नहीं रहे. वे एक सज्जन, सबकी मदद करने वाले सह-कलाकार, ... एक वरिष्ठ साथी और अनुशासित अदाकार थे."

अभिनेता अनुपम खेर ने अपने ट्वीट में कहा, "भारतीय सिनेमा के सबसे पसंदीदा कलाकारों में से एक के लिए अंतिम परदा गिर गया. एक अभिनेता और एक सज्जन प्राण साहब, हम हमेशा आपको और आपके प्यार को मिस करेंगे.'

प्रधानमंत्री डॉक्टर मननोहन सिंह अपनी संवेदना प्रकट करते हुए कहा कि "भारतीय सिनेमा ने आज एक प्रतिमान खो दिया." तो गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि उन्हें पीढ़ियों तक याद किया जाएगा.

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.