बद्रीनाथ से 'बचाया गया आख़िरी तीर्थयात्री'

  • 2 जुलाई 2013
उत्तराखंड

उत्तराखंड के बद्रीनाथ से 'आखिरी तीर्थयात्री को भी बचा लिया गया है और सुरक्षित स्थान पर पहुंचा दिया गया है.'

सेना की केंद्रीय कमान के ब्रिगेडियर उमा महेश्वर ने बीबीसी को बताया कि 'बद्रीनाथ से दोपहर 12 बजे आखिरी तीर्थयात्री को भी निकाल लिया गया है.'

हालांकि अभी हज़ारों की तादाद में स्थानीय लोग इन इलाक़ों में फंसे हुए हैं और उनके लिए राहत कार्य जारी रहेगा. वायु सेना अब भी इन इलाक़ों में रहेगी क्योंकि स्थानीय लोगों को काफ़ी मदद की ज़रूरत है.

अभी ये स्पष्ट नहीं है कि कुल कितने लोगों को बचाया गया है. वायु सेना के अनुसार उनके हेलिकॉप्टरों ने 19,900 लोगों को बचाया है लेकिन इसके अलावा थल सेना, आईटीबीपी, एनडीआरएफ ने भी बड़ी तादाद में लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया है.

राज्य आपदा प्रबंधन विभाग के अनुसार अब तक एक लाख नौ हज़ार 950 लोगों को सुरक्षित निकाला जा चुका है.

समस्याएं

उत्तराखंड

उत्तराखंड से लगभग सभी तीर्थयात्रियों को तो निकाल लिया गया है लेकिन स्थानीय लोग अब भी समस्याओं से जूझ रहे हैं.

लाखों की संख्या में स्थानीय लोग ऐसे इलाक़ों में फंसे हैं जहां उन्हें राहत नहीं मिल पा रही है क्योंकि ख़राब मौसम के कारण वहां हेलिकॉप्टर नहीं जा पा रहे है.

इसके अलावा कई शव अब भी मलबे में दबे हैं जो निकाले नहीं जा सके हैं. करीब 200 गाँव ऐसे हैं जिनका सड़क संपर्क कट गया है. पानी की लाइनें और बिजली के कनेक्शन भी कई गांवों में टूटे पड़े हैं.

ऐसे में केवल पहाड़ी इलाक़ों में ही नहीं हरिद्वार और ऋषिकेश तक डायरिया की समस्याएं देखी जा रही हैं. आने वाले दिनों में वायु सेना स्थानीय लोगों को राहत पहुंचाने का काम देखेगी.

संबंधित समाचार